7. अस्थिरता- अर्थ और प्रकार

icon

अस्थिरता

अस्थिरता का उपयोग ऑप्शन मूल्य निर्धारण सूत्रों में अंतर्निहित संपत्तियों के रिटर्न में उतार-चढ़ाव को मापने के लिए किया जाता है। इसलिए यह एक सिक्योरिटी के जोखिम को मापने में मदद करती है। यह सिक्योरिटी के मूल्य व्यवहार को दर्शाती है और कम समय में होने वाले उतार-चढ़ाव का अनुमान लगाने में मदद करती है।

- किसी सिक्योरिटी की कीमत में अगर थोड़े समय के अंतराल में उतार-चढ़ाव होता है, तो इसे उच्च अस्थिरता या हाई वोलाटिलिटी कहा जाता है।

- अगर किसी सिक्योरिटी की कीमत लंबे समय तक धीरे-धीरे बदलती है, तो इसे कम अस्थिरता या लो वोलाटिलिटी कहा जाता है।

बाजार में उतार-चढ़ाव व्यापारी के विचार को कैसे प्रभावित करता है?

"अस्थिरता मूल्य निवेशक का साथी है" ट्वीडी, ब्राउन कंपनी।

वित्तीय डाटा विश्लेषण का एक अभिन्न हिस्सा बाजार की भावना का विश्लेषण करना है। बाजार में कारोबार की गई संपत्तियों की कीमतें दैनिक आधार पर तेजी से बदलती हैं। यह वित्तीय बाजार के स्टोकेस्टिक व्यवहार का एक प्रभाव है। हालांकि, बाजार की अधिक जोखिम वाली प्रकृति निवेशकों को भविष्य में लाभ कमाने के लिए बाजार में निवेश करने से नहीं रोकती है। उच्च अनिश्चितता बड़े पैमाने पर लाभ या फिर बड़े नुकसान का कारण बन सकती है।

अगर अस्थिरता बहुत अधिक है, तो हो सकता है कुछ निवेशक बाजार में निवेश ना करें, जबकि अन्य निवेशक उच्च लाभ प्राप्त करने की उम्मीद के साथ व्यापार करेंगे। शेयर बाजार के मामले में, किसी भी दिशा में मूल्य में तेजी से उतार-चढ़ाव को अस्थिरता माना जाता है। इसलिए एक उच्च मानक परिवर्तन मूल्य (हाई स्टैंडर्ड डेविएशन वैल्यू) का मतलब है कि कीमतें गतिशील रूप से बढ़ सकती हैं या गिर सकती हैं। ज्यादातर मामलों में मार्केट सूचकांकों में 1% का उछाल इसे अस्थिर बाजार के रूप में वर्गीकृत करता है।

अस्थिरता को प्रभावित करने वाले कारक

कई कारक बाजार की अस्थिरता को प्रभावित करते हैं जैसे:

- प्रतिभूतियों की आपूर्ति और मांग

- एक अर्थव्यवस्था में प्रचलित भूराजनीतिक कारक

- सामाजिक-आर्थिक कारक

- एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी डेट 

यह याद रखना जरूरी है कि एक अस्थिर बाजार का हमेशा यह मतलब नहीं होता कि निवेशक को भारी नुकसान का सामना करना पड़ेगा। यह एक उच्च जोखिम वाली स्थिति है, जिसे निवेशकों अपने पक्ष में कर सकते हैं। सही समय पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट का उपयोग करने से लाभ कमाने या नकारात्मक पहलू के खिलाफ अपने पोर्टफोलियो को बचाने से उच्च अस्थिरता से होने वाले जोखिमों को कम करने में मदद मिलेगी।

अस्थिरता एक बहुआयामी माप है।

ऐतिहासिक अस्थिरता

ऐतिहासिक अस्थिरता रिटर्न या कीमतों में ऐतिहासिक गतिविधियों के आधार पर अस्थिरता के माप को प्रस्तुत करती है। वैज्ञानिक उपायों पर अधिक विश्वास के कारण ऐतिहासिक अस्थिरता को सांख्यिकीय अस्थिरता (स्टैटिस्टिकल वोलाटिलिटी) के रूप में भी जाना जाता है।

ऐतिहासिक अस्थिरता अतीत में विभिन्न समयों पर एक अंतर्निहित संपत्ति की कीमत की गति के आधार पर सिक्योरिटी के प्रदर्शन को निर्धारित करने में मदद करती है।

जब प्रतिभूतियों की कीमतों में बड़े पैमाने पर उतार-चढ़ाव होता है, तो ऐतिहासिक अस्थिरता बढ़ जाती है। दूसरी ओर, जब कीमतों में औसत से कम स्तर पर परिवर्तन होता है, तो सांख्यिकीय अस्थिरता विफल हो जाएगी।

निहित अस्थिरता (इमप्लाईड वोलाटिलिटी)

ऐतिहासिक अस्थिरता के विपरीत, निहित अस्थिरता प्रतिभूतियों के मूल्यों में संभावित गतिविधियों के भविष्य का प्रक्षेपण है।

निहित अस्थिरता से ऐतिहासिक डाटा को ध्यान में रखे बिना, किसी विशेष स्टॉक के मूल्य के भविष्य को निर्धारित करने में मदद मिलती है। यह एक आवश्यक मेट्रिक है जो ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट की कीमतों को निर्धारित करने में मदद करता है। निहित अस्थिरता प्रतिशत में व्यक्त की जाती है हालांकि, यह स्पष्ट नहीं करता है कि कीमतें किस दिशा में बढ़ेंगी।

- एक उच्च निहित अस्थिरता बताती है कि एक विशिष्ट सिक्योरिटी की कीमत प्रभावी तरीके से बदल जाएगी – इसके मूल्य में या तो वृद्धि हो सकती है गिरावट। 

- दूसरी ओर, कम निहित अस्थिरता से पता चलता है कि एक विशिष्ट सिक्योरिटी की कीमत में मामूली बदलाव आएगा। 

इसलिए  बेयरिश मार्केट में निहित अस्थिरता, बुलिश मार्केट के मुकाबले ज्यादा होगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि मंदी के बाजार में समय के साथ कीमतों में गिरावट का पूर्वानुमान रहता है, जबकि एक तेजी के बाजार में कीमतें समय के साथ बढ़ने की उम्मीद होती है।

निहित अस्थिरता और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट

जैसा कि हम जानते हैं, ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट दो प्रकार के हैं: कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन । एक कॉल ऑप्शन में एक निवेशक, कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी तक स्ट्राइक मूल्य पर स्टॉक खरीदने का हकदार होता है। जबकि पुट ऑप्शन में एक निवेशक, कॉन्ट्रैक्ट की एक्सपायरी तक स्ट्राइक मूल्य पर स्टॉक बेचने का हकदार होता है।

अंतर्निहित सिक्योरिटी की निहित अस्थिरता का उपयोग ऑप्शन कॉन्ट्रैक्टों के मूल्य निर्धारण के लिए किया जाता है। ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला ब्लैक-स्कोल्स मॉडल है, जो एक अंतर्निहित संपत्ति की वर्तमान बाजार कीमत, इसकी स्ट्राइक कीमत और इसका मूल्य निर्धारित करने के लिए एक्सपायरी की तारीख को ध्यान में रखता है।

अस्थिरता के विभिन्न माप

अस्थिरता को अन्य तरीकों से भी मापा जा सकता है जैसे:

बीटा

बीटा शेयरों के मूल्य और उनके प्रासंगिक बाजार सूचकांक के बीच सापेक्षता को दर्शाता है। यह संबंधित बेंचमार्क इंडेक्स के मुकाबले प्रतिभूतियों के रिटर्न में अनुमानित अस्थिरता का भी प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए यह स्टॉक अस्थिरता का एक ठोस प्रतिरूप है।

उदाहरण के तौर पर, अगर कोई विशेष स्टॉक 1.2 की बीटा वैल्यू दिखाता है और इसका प्रासंगिक बेंचमार्क इंडेक्स, निफ्टी 50 है, तो यह दर्शाता है कि निफ्टी 50 इंडेक्स में 100% बदलाव के लिए  उस स्टॉक का मूल्य 120% से बदल जाएगा। दूसरी ओर, 0.8 की बीटा वैल्यू बताती है कि निफ्टी 50 इंडेक्स में 100% परिवर्तन के लिए इसके शेयर की कीमत 80% से बदल जाएगी। 

एक उच्च बीटा वैल्यू, सूचकांक के साथ एक उच्च सहसंबंध या कोरिलेशन को दर्शाती है और इसलिए उच्च अस्थिरता होती है यानी बाजार पर निर्भरता।

अस्थिरता सूचकांक (VIX)

अस्थिरता सूचकांक विशेष प्रतिभूतियों की गतिविधि या व्यापक बाजार के संबंध में निवेशक की भविष्यवाणियों पर निर्भर है। यह सूचकांक शिकागो बोर्ड ऑप्शंस एक्सचेंज द्वारा विकसित किया गया था और यह निवेशक की राय को ध्यान में रखता है। एक उच्च विक्स  (VIX) अस्थिर और जोखिम भरे बाजार को दर्शाता है, जबकि कम VIX, कम जोखिम वाले बाजार को दर्शाता करता है।

निष्कर्ष

वोलाटिलिटी स्माइल क्या है?

यह एक चित्रात्मक आकृति है जो कॉन्ट्रैक्ट के एक समूह की निहित अस्थिरता और स्ट्राइक मूल्य को प्लाट करने पर उभरती है। याद रखें, ये ऐसे कॉन्ट्रैक्ट हैं जिनमें अंतर्निहित संपत्ति और एक्सपायरी एक ही होती है। जब कोई अंतर्निहित संपत्ति आउट-ऑफ-द-मनी से दूर जाकर, इन-द-मनी की ओर जाने लगती है या इसकी विपरित स्थिति में, तो इसकी निहित अस्थिरता में पहले तो गिरावट आती है। इसके बाद यह एट-द-मनी पॉइंट के निचले स्तर पर पहुंचती है  और फिर बढ़ने लगती है।  

इस घटना के कारण आकृति एक मुस्कान की तरह लगती है! एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट जब एट-द-मनी होता है तो निहित अस्थिरता सबसे कम होती है; यानी अंतर्निहित संपत्ति का स्ट्राइक मूल्य और बाजार मूल्य समान होता है।

वोलाटिलिटी स्क्यू क्या है?

संतुलित वोलाटिलिटी स्माइल के विपरीत, एक वोलाटिलिटी स्क्यू अधिक तिरछा होता है। इसमें आउट-ऑफ-द-मनी ऑप्शन , इन-द-मनी ऑप्शन और ऐट-द-मनी ऑप्शन के बीच विभिन्न IV को दर्शाया जाता है।

जब एक घटना को दूसरे की तुलना में उच्च निहित अस्थिरता नियुक्त की जाती है तो ग्राफिकल स्क्यू दिखाई देता है।

अब तक आपने पढ़ा

  1. अस्थिरता का उपयोग ऑप्शन मूल्य निर्धारण सूत्रों में अंतर्निहित संपत्तियों के रिटर्न में उतार-चढ़ाव को मापने के लिए किया जाता है।
  2. मार्केट सूचकांक में 1% का उछाल इसे एक अस्थिर बाजार के रूप में वर्गीकृत करता है।
  3. ऐतिहासिक अस्थिरता, रिटर्न या कीमतों में ऐतिहासिक गतिविधियों के आधार पर अस्थिरता के माप को दर्शाती है।
  4. निहित अस्थिरता किसी ऐतिहासिक स्टॉक को ध्यान में रखे बिना, किसी विशेष स्टॉक के मूल्य का भविष्य निर्धारित करने में मदद करता है।
  5. अस्थिरता को बीटा और अस्थिरता सूचकांक द्वारा भी मापा जा सकता है।
  6. वोलाटिलिटी स्माइल एक चित्रात्मक आकृति है जो कॉन्ट्रैक्ट के एक समूह की निहित अस्थिरता और स्ट्राइक मूल्य को प्लॉट करने पर उभरती है।
  7. एक वोलाटिलिटी स्क्यू अधिक तिरछी होता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo