2. कब और कैसे करें निवेश

icon

अब जब आप अच्छी तरह जान चुके हैं कि निवेश क्यों करना चाहिए, तो निवेश के बाकी दो अहम पहलुओं को समझने का वक्त आ गया है, और वो पहलू हैं,  निवेश कब करें और कैसे करें। इन दोनों सवालों का जवाब देना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि जो तरीका आपके लिए काम करता हो सकता है वो किसी और के लिए काम ना करे। चलिए फिर भी हम पहले (और आसान) सवाल पर नज़र डालते हैं, यानी निवेश कब करें। 

निवेश करने का सही समय क्या है ?

इस सवाल का जवाब इस लोकप्रिय कहावत में हो सकता है: निवेश करने का सबसे अच्छा समय कल था और  अगला सबसे अच्छा समय अभी ​​है।

इसका मतलब है निवेश शुरू करने का सही समय जल्द से जल्द है। आदर्श रूप से, आपको उस समय से निवेश करना शुरू कर देना चाहिए जब आपको अपना पहला वेतन मिलता है।

यह जवाब काफी आसान लगता है, है ना? लेकिन इसमें भी एक ट्विस्ट है। आपकी वित्तीय स्थिति भी निवेश करने का सही समय निर्धारित करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाती है।

उदाहरण के लिए, 25 वर्षीय प्रणव को ले लीजिए, उन्हें अपना पहला वेतन कुछ साल पहले मिला था, लेकिन उस समय, वह 23 साल के थे और उसके नाम पर पहले से ही कुछ कर्ज था। उसके वेतन का अधिकांश हिस्सा कर्ज़ को चुकाने मेंं लग गया और बाकी रहे वेतन ने उनके नियमित खर्चों को कवर किया, जिसमें निवेश के लिए कोई जगह नहीं थी। 

प्रणव की तरह, अगर आपके पास भी कई अन्य वित्तीय दायित्व हैं, तो मुमकिन है कि आपके पहले वेतन मिलने के समय आप निवेश ना कर पाएँ। लेकिन इसमें कुछ गलत नहीं होगा। बेहतर यही है कि आप कोई निवेश शुरू करने से पहले अपने उच्च-ब्याज वाले कर्ज़ों को खत्म कर लें ।

छोटी शुरूआत करें, लेकिन जल्दी करें

यह एक बहुत बढ़ी ग़लतफहमी है कि निवेश सिर्फ तभी शुरू किया जा सकता है जब आपके पास एकमुश्त रकम बची हो। लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। आप छोटी रकम से भी निवेश की शुरुआत कर सकते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ये छोटी राशि आपकी आय का सिर्फ एक छोटा हिस्सा है; अहम ये है कि आप अपने जीवन में निवेश का सफर जल्द से जल्द शुरू करें। 

यह करने से कितना अंतर आ सकता है, ये प्रणव और उसके साथी के उदाहरण से समझते हैं। 

परिस्थिति 1:

  • आपको 25 वर्षीय प्रणव याद ही होंगे? वह लगभग 55 वर्ष की आयु में रिटायर होना चाहते हैं।
  • उनके कर्ज़ अब खत्म हो गए हैं, तो  उन्होंने ₹10,000 हर महीने एक ऐसी योजना में लगाए है जो 12% की दर पर रिटर्न देती है।
  • जब वो 30 साल बाद रिटायर होंगे, तो उन्हें निवेश पर रिटर्न से लगभग ₹3,52,99,138 तक मिलेंगे, यानी लगभग 3.5 करोड़ रुपए! है ना कमाल?

परिस्थिति 2:

  • अब, उनके सहयोगी 35 वर्षीय देव को देखते है। उन्होंने अभी निवेश करना शुरू ही किया है और प्रणव की तरह वह भी 55 साल की उम्र रिटायर होना चाहते हैं। 
  • हालांकि, उनके निवेश करने का समय घटकर 20 साल रह गया है।
  • देव समय की कमी को पूरा करने के लिए ₹20,000 प्रति माह (प्रणव के ₹10,000 रुपये के बजाय) निवेश करता है।
  • फिर भी, देव केवल ₹1,99,82,958 यानी लगभग 2 करोड़ रुपए ही जोड़ पाएगा

2 करोड़ रुपए ओर 3.5 करोड़ रुपए की तुलना करें तो पता लगता है कि निवेश राशि बढ़ाने के बाद भी, देव की राशि प्रणव जितनी नहीं है। तो प्रणव की निवेश से मिलने वाली राशि ज्यादा क्यों है? वो सिर्फ इसलिए क्योंकि उन्होंने देव से पहले निवेश करना शुरू कर दिया था।

तो, आपको कब निवेश करना चाहिए?

सभी बातों पर विचार करने के बाद ये पता चलता है की हमें निवेश की शुरुआत जल्दी करनी चाहिए, तभी आपका निवेश लंबे समय में बढ़ सकता है। छोटी मात्रा में व्यवस्थित रूप से निवेश करके शुरू करें। एक बार जब आप अपने उच्च-ब्याज वाले कर्ज़ (जैसे क्रेडिट कार्ड बकाया और उच्च-ब्याज पर्सनल लोन) को चुका लें, तो आप अपनी आय का एक बड़ा हिस्सा निवेश करने पर केंद्रित कर सकते हैं।

इसके अलावा, निवेश एक बार का मामला नहीं है। इसे तो आपको अपने कमाई के वर्षों के दौरान लगातार करते रहना है, ताकि आप अपने भविष्य के प्रमुख लक्ष्यों को पूरा करने के लिए तैयार रहें ।

कैसे करें निवेश?

ओह! यह तो सीधे ही आपने बहुत टेढ़ा सवाल पूछ लिया? सही बताएँ तो, पैसे को कैसे निवेश करने का सवाल थोड़ा ज्यादा मुश्किल है क्योंकि निवेश के कई तरीके हैं। आपको अपने पैसे का निवेश कैसे करना चाहिए, इसका सही जवाब वास्तव में आपके वित्तीय दायित्वों, आपकी इनकम और आपके जीवन के लक्ष्यों जैसी अलग-अलग चीज़ों पर निर्भर करता है।

फिर भी, यहाँ ऐसी टिप्स-और-ट्रिक्स हैं जो आपको अपना पैसा निवेश करने और अपने रिटर्न को अधिकतम स्तर पर पहुँचाने में मदद कर सकती हैं। इनमें से कुछ हैं ये  - 

  • अपने निवेश को अपने लक्ष्यों के साथ जोड़ें

इससे पहले कि आप निवेश के लिए अपने पैसों का का प्रबंध करें, पहले अपने वित्तीय लक्ष्यों के बारे में सोचें। एक टाइमलाइन बनाना और अपने लक्ष्यों को लंबी और छोटी अवधि में बाँटना हमेशा ही एक अच्छा ऑप्शन है। इससे आप अपनी निवेश रणनीति को बेहतर ढंग और ज़रूरी स्पष्टता से तैयार कर पाएंगे ।

फिर, अपने लंबी और छोटी अवधि के लक्ष्यों के हिसाब से अपने निवेश विकल्पों को चुनें।

उदाहरण के लिए, अपने छोटी अवधि के लक्ष्य, जैसे कि नई कार या नई बाइक खरीदना, को पूरा करने के लिए एक इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) जैसे अत्यधिक लिक्विड शॉर्ट-टर्म प्लान में निवेश करना बेहतर विकल्प है।

अपने लॉन्ग-टर्म गोल, जैसे कि अपने बच्चे की शिक्षा या शादी के लक्ष्य को पूरा करने के लिए लॉन्ग-टर्म प्लान में निवेश करना ज्यादा बेहतर समझा जाता है ।

  • रिस्क उठाने की अपनी क्षमता के अनुसार निवेश करें - 

आपके लिए किस तरह का निवेश सही है ये जानने के लिए ये जानना ज़रूरी है कि आप कितना रिस्क ले सकते हैं। निवेश की सीढ़ी पर चढ़ने से पहले अपने रिस्क लेने और झेलने की क्षमता का अच्छे से आकलन कर ले।

बहुत सारे ऑनलाइन कैलक्युलेटर हैं जिनका उपयोग आप अपनी रिस्क प्रोफाइल को देखने और समझने के लिए कर सकते हैं। आपकी आयु, वित्तीय स्थिति, आपके निवेश और अन्य वित्तीय दायित्वों की जानकारी आपके रिस्क लेने के क्षमता को प्रभावित करने वाले कुछ कारक हैं।

अगर आप कंज़रवेटिव निवेशक हैं, यानी आप रिस्क लेना बिल्कुल पसंद नहीं करते, तो आपके लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही फंडेड-स्किम्स और फ़िक्स्ड-डिपॉजिट में अपना पैसा निवेश करना बेहतर है। अगर आप कुछ रिस्क ले सकते हैं, तो आप म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। दूसरी ओर, अगर आप एक आक्रामक निवेशक हैं जिन्हें जोखिम लेने मे मज़ा आता है तो आपके लिए सही विकल्प इक्विटी और कमोडिटीज़ होंगे।

  • अपने निवेश पोर्टफोलियो में विविधता लाएँ

एक पुरानी कहावत है - अपने सभी अंडे एक टोकरी में न रखें। यह बात निवेश के मामले में बिलकुल सही बैठती है। सिर्फ एक निवेश विकल्प में अपने सारे पैसे का निवेश करना कभी भी एक अच्छा विचार नहीं होता, क्योंकि अगर आपका इनवेस्टमेंट अच्छा प्रदर्शन नहीं करता है, तो एक बहुत बड़ी संभावना है कि आप अपनी लगायी हुई सारी पूँजी खो सकते हैं।

अपने निवेश पोर्टफोलियो में विविधता लाकर यानी अलग-अलग जगह और स्कीम में निवेश कर आप इस जोखिम को काफी कम कर सकते हैं। आप कई तरीकों से अपने पोर्टफोलियो में विविधता ला सकते हैं। ऐसा करने का एक तरीका विभिन्न प्रकार के निवेशों में इन्वेस्ट करना है, जैसे कम रिस्क और ज्यादा रिस्क वाले विकल्प। आप अलग-अलग क्षेत्रों में इन्वेस्ट करके भी अपनी रिस्क को कम कर सकते हैं ।

उदाहरण के लिए, अगर आप इक्विटी में निवेश कर रहे हैं, तो आप बैंकिंग, स्वास्थ्य सेवा, यात्रा और पर्यटन और एफएमसीजी जैसे उद्योगों के शेयरों में इन्वेस्ट कर सकते हैं। इससे आपके रिस्क को अलग-अलग उद्योगों में समान रूप से बाँट दिया जाता है, जिससे आपकी निवेश पूँजी खोने की संभावना कम हो जाती है।

निष्कर्ष- 

तो, इससे हमें यह पता चलता है कि आपको पैसे का निवेश कब और कैसे करना है। बेशक, आप शायद यह भी सोच रहे हैं कि अपने फंड को कहाँ निवेश करें। आने वाले मॉड्यूल आपके लिए उपलब्ध निवेश विकल्पों की जानकारी देंगे।

अब तक आपने पढ़ा 

  • निवेश शुरू करने का सही समय जल्द से जल्द है, इससे आपका निवेश लंबी अवधि के लिए बढ़ सकता है।
  • व्यवस्थित रूप से छोटी मात्रा में निवेश करके अपना इनवेस्टमेंट शुरू करें।
  • एक बार जब आप अपने उच्च-ब्याज वाले ऋण को खत्म कर देते हैं, तो आप अपना ध्यान अपनी आय के एक बड़े हिस्से को निवेश करने पर लगा सकते है।
  • अपने कमाई के वर्षों के दौरान लगातार निवेश करें, ताकि आप जीवन के प्रमुख लक्ष्यों को पूरा कर सकें।
  • अपने निवेश को अपने जीवन लक्ष्यों के साथ जोड़ें।
  • अपने रिस्क प्रोफाइल को ध्यान में रखें।
  • अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए याद रखें।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (11)

Radha Chavan

23 Feb 2021, 07:55 PM

Great

KOMAL SAHU

23 Feb 2021, 12:42 AM

Very best planing

Sanjay Joshi

21 Feb 2021, 10:13 AM

Why I am getting to verify my account ?

Replies (1)

Ravi trigunayat

20 Feb 2021, 11:32 AM

Nice guide

अधिक टिप्पणियां लोड करें एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo