Module for निवेशक

मौलिक विश्लेषण

2. फंडामेंटल एनालिसिस की मात्रात्मक और गुणात्मक बारिकियाँ

icon

जैसा कि आप जानते हैं, शेयरों का मौलिक विश्लेषण या फंडामेंटल एनालिसिस, आपको कंपनी को बेहतर तरीके से जानने में मदद करता है। पर इससे आपको किस तरह की जानकारी मिलती है? या दूसरे शब्दों में कहें तो आपको इसमें किस तरह की जानकारी ढूँढनी चाहिए? यह तय करने से पहले आपको उस कंपनी की मात्रात्मक और गुणात्मक या क्वांटिटेटिव और क्वालिटेटिव पहलुओं का विश्लेषण कर लेना चाहिए ताकि आपको यह पता लग सके कि यह कंपनी एक अच्छा निवेश विकल्प है भी या नहीं।

चलिए, इसे बेहतर समझने के लिए पिछले अध्याय का ही उदाहरण लेते हैं। आपको याद होगा कि हमें वहाँ छुट्टियों में घूमने के लिए एक जगह चुननी थी। आइए, तब ध्यान में लिए गए पहलुओं को मात्रात्मक या गुणात्मक की श्रेणी में वर्गीकृत करते हैं।

छुट्टी के लिए जगह चुनना

संभव विकल्प

पहलू की प्रकृति 

आप किस समय छुट्टी पर जाना चाहते हैं?

अब से 3 महीने बाद, गर्मी में

मात्रात्मक

आप छुट्टी पर कहाँ जाना चाहते हैं, किसी समुद्र तट पर, किसी शहर में या पहाड़ों में ?

समुद्र तट पर 

गुणात्मक

आप कितने दिनों के लिए छुट्टी लेने की योजना बना रहे हैं?

7-10 दिन

मात्रात्मक

आप किस तरह के मौसम का आनंद लेना चाहते हैं ?

हल्की धूप और हवादार मौसम 

गुणात्मक 

आपके साथ कितने लोग होंगे?

3 लोग 

मात्रात्मक 

कोई स्पेशल डिश है जिसे आप चखना चाहेंगे ?

शायद मेडिटरेनियन 

गुणात्मक 

फ्लाइट्स बुक करवाने के लिए आपका बजट क्या है ?

लगभग ₹60,000

मात्रात्मक 

आप एक आरामदायक छुट्टी चाहते हैं या एंडवेंचर और रोमांच से भरपूर यात्रा चाहते हैं? 

एंडवेंचर और रोमांचक 

गुणात्मक

 आपने देखा कि आप कैसे अपनी अगली वेकेशन प्लान करते समय मात्रात्मक और गुणात्मक दोनों पहलुओं को देखते हैं?  बस इसी तरह से, जब आप किसी कंपनी का विश्लेषण कर रहे होते हैं, तब भी आपको इन दोनों प्रकार के कारकों में एक बैलेंस बनाना होता है।

इक्विटी के फंडामेंटल एनालिसिस से आपको कौन-सी मात्रात्मक और गुणात्मक जानकारी मिलती है?

जब आप किसी कंपनी का मूल्यांकन करने के लिए शेयरों के फंडामेंटल एनालिसिस की तकनीकों को लागू करते हैं, तो आपको कंपनी की कई डिटेल्स के बारे में जानने को मिलता है। इनमें से कुछ मात्रात्मक होती, जबकि कुछ भावात्मक होती हैं। उदाहरण के लिए, यहाँ कुछ मेट्रिक्स हैं जो इक्विटी के फंडामेंटल एनालिसिस से पता लगते हैं।

मात्रात्मक बारीकियाँ

गुणात्मक बारीकियाँ 

कंपनी का राजस्व कितना है? 

कंपनी का संचालन कितना कुशल है? 

बीते साल में कितना मुनाफा हुआ? 

इसके प्रमुख प्रबंधन कर्मियों की क्या विशेषताएँ हैं? 

कंपनी की पूँजी कितनी है? 

कंपनी की ब्रांड मूल्य कैसी है?

कंपनी अपने कैश का उपयोग कैसे कर रही है?

क्या कंपनी किसी खास तकनीक का उपयोग करती है? 

कंपनी किस पर खर्च करती है? 

कंपनी किस तरह की सामाजिक ज़िम्मेदारी की पहल कर रही है? 

कंपनी पर लेनदारों का कितना कर्ज़ है? 

भविष्य के लिए कंपनी का विज़न क्या है? 

फंडामेंटल एनालिसिस में इन सभी जानकारी को इकट्ठा करने के लिए आपको किसी कंपनी की वित्तीय रिपोर्ट, उसकी वार्षिक रिपोर्ट और कई विश्लेषक रिपोर्टों और फाइलिंग को अच्छे से देखना होगा। हम इस मॉड्यूल में आने वाले अध्याय में इनके बारे में और पढ़ेंगे। 

कंपनी के ऐतिहासिक प्रदर्शन के क्या मायने हैं?

जैसा कि आपने देखा, शेयरों का फंडामेंटल एनालिसिस कंपनी के वर्तमान और संभावित भविष्य पर ध्यान देता है। तो क्या कंपनी के ऐतिहासिक प्रदर्शन के बारे में जानना जरूरी नहीं है ?

किसी कंपनी के शेयरों की ऐतिहासिक कीमत और मात्रा की चाल आपको भविष्य में कंपनी के प्रदर्शन के बारे में बहुत सारी जानकारी दे सकती है। और इसके लिए एक अलग तकनीक मौजूद है जो मुख्य रूप से कंपनी के ऐतिहासिक शेयरों की कीमत और ट्रेडिंग वॉल्यूम के रूझानों के विश्लेषण पर आधारित है।

 इसे टेक्निकल एनालिसिस कहते हैं

रिपोर्टों और फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स से अलग, टेक्निकल एनालिसिस, इतिहास में  कंपनी के शेयरों की कीमत में उतार-चढ़ाव और उनकी ट्रेड वॉल्यूम को दर्ज करने वाले चार्ट के आधार पर किया जाता है।

यहां एक सैंपल चार्ट दिया गया है: 

 स्रोत: dalalstreetwinners.com

देखिए, किस तरह ये चार्ट पिछले कुछ सालों में कंपनी के शेयरों की कीमत में आए उतार-चढ़ाव को दर्ज करता है। और ये टेक्निकल एनालिसिस का बस एक अंंश है। 

निष्कर्ष

तो, अब आप जानते हैं कि शेयरों का फंडामेंटल एनालिसिस एक कंपनी के मात्रात्मक और गुणात्मक पहलुओं को देखता है, जबकि टेक्निकल एनालिसिस विभिन्न प्रकार के चार्ट का उपयोग करके ऐतिहासिक मूल्य और मात्रा में बदलाव को देखता है। ये दोनों तकनीकें एक दूसरे से कैसे अलग हैं? ये हम अगले अध्याय में जानेंगे।

अब तक आपने पढ़ा

  • जब आप किसी कंपनी का मूल्यांकन करने के लिए फंडामेंटल एनालिसिस की तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको कंपनी के बारे में कई बातें पता चलती हैं। इनमें से कुछ मात्रात्मक होती हैं, जबकि कुछ भावात्मक।
  • फंडामेंटल एनालिसिस आपको इन मात्रात्मक और गुणात्मक पहलुओं को समझने में मदद करता है।
  • किसी कंपनी के शेयरों की ऐतिहासिक कीमत और ट्रेड वॉल्यूम के रुझान से भविष्य में कंपनी के प्रदर्शन से जुड़ी जानकारी मिल सकती है। वह तकनीक जो मुख्य रूप से इतिहास में  कंपनी के शेयरों की कीमत में उतार-चढ़ाव और उनकी ट्रेड वॉल्यूम का इस्तेमाल करती है उसे टेक्निकल एनालिसिस कहते हैं। 
  • रिपोर्टों और फाइनेंशियल स्टेटमेंट के विपरीत, टेक्निकल एनालिसिस कंपनी के ऐतिहासिक शेयरों की कीमत और ट्रेडिंग वॉल्यूम के रूझानों के विश्लेषण पर आधारित है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (4)

Imran Shaikh

23 Jan 2021, 03:41 PM

Hii
Bahut achi tarikase samjaya hai..

JAWAHARLAL NANDA

22 Jan 2021, 08:51 PM

Best sinple language!!

JAWAHARLAL NANDA

22 Jan 2021, 08:49 PM

सुपर्ब!!! बहुत ही सरल अच्छी भाषा में सि

Sunil Bhalla

17 Jan 2021, 08:06 PM

Great knowledge and information for new comers

Replies (1)
एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo