4. संक कॉस्ट फैलेसी- पहले ही बहुत नुकसान हो चुका है

icon

सोचिए कि आपने कुछ सप्ताह पहले ₹500 का एक फिल्म टिकट खरीदा था। जिस दिन फिल्म देखने जाना था उस दिन आपको लगता है कि आप बीमार हैं और बाहर बारिश भी हो रही होती है। आप जानते हैं कि बारिश की वजह से ट्रैफ़िक ज्यादा होगा और बारिश में बाहर जाने से आप ज्यादा बीमार हो सकते हैं। इससे आपके फायदे से कहीं ज्यादा नुकसान होगा फिर भी, आप थिएटर जाना ही क्यों चुनते हैं? 

इसे विफलता लागत या संक कॉस्ट फैलेसी के रूप में जाना जाता है। हम किसी भी उस काम को करना जारी रखते हैं अगर हम पहले ही उसमें पैसे लगा चुके हैं या हमने निर्णय लेने में बहुत प्रयास और मेहनत की होती है। ज़्यादातर बार हमें यह बात पता होती है कि यह सबसे अच्छा निर्णय नहीं है, जैसे बीमारी या मौसम की वजह से अपने इवेंट को प्रभावित करना।       

ज्यादातर निवेशक - शुरुआती और पेशेवर दोनों - बार-बार उस जाल में गिरते हैं जो  विशेषज्ञों द्वारा व्यावहारिक वित्त के क्षेत्र में वर्णित है। ये जाल कई रूप लेते हैं। कुछ संज्ञानात्मक पूर्वाग्रह होते हैं; अन्य तार्किक पतन होते हैं; और अन्य कुछ सरल गलतफहमियां होती हैं जो वे बार-बार दोहराते हैं।

हम सभी अपने पैसे को खोने से डरते हैं। यह हमें बेवकूफी भरे काम को करने से रोकता है और  हमें बारिश भरे एक दिन से बचने में हमारी मदद करता है। पर संक कॉस्ट फैलेसी का प्रभाव अलग है। यह तब होता है जब हम किसी निवेश के लिए भुगतान की गई कीमत पर अटक जाते हैं, खासकर जब वह निवेश लॉस में चला गया हो। 

विफलता लागत प्रभाव की वजह से , हम उस गलत निवेश निर्णय पर बने रहते हैं, इस उम्मीद में कि हमें उस निवेश पर लगाई गई कीमत वापस मिल जाएगी और हिसाब बराबर हो जाएगा। 

आइए एक उदाहरण देखें:

सफेद हाथियों में निवेश या कॉनकॉर्ड फैलेसी

कॉनकॉर्ड एक सुपरसोनिक यात्री जेट था, जो फ्रांस और ब्रिटिश सरकार के बीच की एक संयुक्त परियोजना थी। निवेश की एक निश्चित अवधि के बाद, यह तय हो गया था कि इस परियोजना के एक खराब वित्तीय निवेश होने की संभावना है, मतलब इसमें जो पैसे लगे हैं वह डूब जाएंगे। लागत अधिक थी, और राजस्व सीमित था। लेकिन क्योंकि परियोजना में बहुत पहले ही निवेश किया जा चुका था, इसलिए संक कॉस्ट को राइट-ऑफ करने और प्रारंभिक वित्तीय घाटे को स्वीकार करने के बजाय, परियोजना को जारी रखने का निर्णय लिया गया था, जिसकी वजह से आगे काफी वित्तीय नुकसान हुआ(निवेश जारी रखने के राजनीतिक कारण भी थे, जैसे ब्रिटेन का सिंगल मार्केट में प्रवेश)।

व्यक्तिगत प्रभाव

आर्थिक संदर्भ में, विफलता लागत वो लागत है जो पहले से ही खर्च हो चुकी हैं और अब उन्हें रिकवर नहीं किया जा सकता है। पिछले उदाहरण में, फिल्म टिकट पर खर्च किए गए ₹500 अब वापस नहीं आ सकते हैं, चाहे आप फिल्म देखें या नहीं। इसलिए यह हमारे वर्तमान निर्णय लेने का कारक नहीं होना चाहिए क्योंकि वर्तमान में उस लागत के आधार पर निर्णय लेना तर्कहीन है जो रिकवर ही नहीं हो सकती है। अगर हम तर्कसंगत रूप से कार्य कर रहे हैं, तो केवल भविष्य की लागत और लाभों को ध्यान में रखा जाएगा, क्योंकि चाहे हम निर्णय का पालन करें या ना करें, किया हुआ निवेश वापिस नहीं आएगा।

संक कॉस्ट फैलेसी का मतलब है कि हम तर्कहीन निर्णय ले रहे हैं क्योंकि हम मौजूदा विकल्पों के अलावा अन्य प्रभावों पर ध्यान दे रहे हैं। ये फैलेसी हमारे जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित करती है जिससे क्षमता से कम सफल नतीजे सामने आते हैं।

यह ऐसा है जैसे हम अपने साथी के साथ रहने का निर्णय लेते हैं। हम भले ही दुखी हों पर हम उसी के साथ रहते है क्योंकि हमने पहले ही अपने जीवन के इतने वर्षों को उनके साथ ही जिया है, या जैसे हम हमारे पुराने घर का रिनोवेशन करवाने के लिए लगातार पैसा खर्च करते रहते हैं, भले ही नया घर खरीदना सस्ता हो, पर हम पहले ही अपने पुराने घर में पैसा लगा चुके होते हैं इसलिए हम पैसा लगाना जारी रखते हैं।  

प्रणालीगत प्रभाव

और ऐसा नहीं है कि संंक कॉस्ट फैलेसी का असर दैनिक जीवन के छोटे-छोटे फैसलों पर ही पड़ता है, जैसे फिल्म देखने जाना। यह तो उन बड़े फैसलों को भी प्रभावित कर देता है जो सरकारें और बड़ी कंपनियाँ लेती है। 

कॉनकॉर्ड परियोजना में शामिल सरकारें और बड़ी कंपनियां भी संक कॉस्ट फैलेसी जैसी संज्ञानात्मक फैलेसी का शिकार हो सकती हैं। यह साफ देखा जा सकता है कि बहुत ज्यादा मात्रा में धन, समय और प्रयास बर्बाद हो जाते हैं क्योंकि विफलता लागत कभी भी रिकवर नहीं की जा सकती चाहे प्रोजेक्ट को छोड़ ही दिया जाए। चूंकि सरकारें कभी-कभी परियोजनाओं के लिए कर-दाताओं के पैसे का उपयोग करती है इसलिए संक कॉस्ट फैलेसी हम सभी को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। 

ऐसा क्यों होता है?

संक कॉस्ट फैलेसी इसलिए होती है क्योंकि हम पूरी तरह से तर्कसंगत निर्णय नहीं लेते और अक्सर हमारी भावनाओं से प्रभावित हो जाते हैं। जब हमने एक विकल्प में निवेश का निर्णय ले लिया होता है तो उसे पूरा ना कर पाने पर हमें पछतावा महसूस होता है। संक कॉस्ट फैलेसी प्रतिबद्धता पूर्वाग्रह से जुड़ी है, जहां हम नए सबूतों के बावजूद अपने पिछले निर्णयों का समर्थन करना जारी रखते हैं और यह सुझाव देते हैं कि नया तरीका सबसे अच्छा तरीका नहीं है।

हम इस बात पर ध्यान ही नहीं दे पाते है कि जो भी समय, प्रयास या धन हमने पहले ही खर्च कर दिया है, उसे रिकवर नहीं किया जा सकता है। हम पहले लगायी हुई लागतों के आधार पर निर्णय लेते हैं, जबकि इसके बजाय हमें वर्तमान और भविष्य की लागतों और लाभों के आधार पर तर्कसंगत रूप से अंतर करना चाहिए।   

यह महत्वपूर्ण क्यों है?

जैसा कि इस अध्याय में बताए गए विभिन्न उदाहरणों द्वारा देखा जा सकता है, संक कॉस्ट फैलेसी हमारे दैनिक जीवन के कई पहलुओं पर असर डालती है, साथ ही उन बड़े फैसले पर भी असर होता है जिनका प्रभाव लंबे समय तक रहता है। संक कॉस्ट फैलेसी का मतलब है कि हम ऐसे निर्णय ले रहे हैं जो तर्कहीन हैं और खराब परिणामों की तरफ ले जाते हैं। हम अपने वर्तमान और भविष्य की लागतों और लाभों के बजाय अपने पिछले निवेशों पर केंद्रित रहते हैं, जिसका अर्थ है कि हम उन निर्णयों के लिए खुद को प्रतिबद्ध कर लेते हैं जो हमारे लिए सही नहीं हैं।

संक कॉस्ट फैलेसी एक दुष्चक्र है, क्योंकि हम धन, समय और प्रयासों को उन निवेश में लगाना जारी रखते हैं जिनमें हम पहले से ही काफी समय लगा चुके होते हैं। जितना अधिक हम निवेश करते हैं, उतना ही अधिक हम प्रयास जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध महसूस करते हैं, और उतने ही अधिक संसाधनों को हम पिछले निर्णय में झोंकते रहते हैं।

निष्कर्ष

निवेश लागत लक्ष्य निर्धारित करना संक कॉस्ट फैलेसी से बचने का सबसे अच्छा तरीका है। ऐसा करने के लिए, निवेशक अपने पोर्टफोलियो का प्रदर्शन लक्ष्य निर्धारित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक निवेशक अगले दो वर्षों में अपने पोर्टफोलियो से 10% रिटर्न का लक्ष्य रख सकता है या S & P 500 इंडेक्स को 2% से पीछे छोड़ने की आशा कर सकता है। अगर पोर्टफोलियो इन लक्ष्यों को प्राप्त करने में विफल रहता है, तो यह देखने के लिए पुन: मूल्यांकन किया जा सकता है कि बेहतर रिटर्न प्राप्त करने के लिए कहां सुधार किया जा सकता है।

अगर निवेशक व्यक्तिगत स्टॉक में व्यापार कर रहे हैं, तो व्यापार में प्रवेश करने से पहले उनके पास पूर्व निर्धारित निकास बिंदु हो सकता है। यह खराब निवेशों से अपनेआप निकलने और उनमें अधिक समय और पूंजी निवेश की प्रवृत्ति से बचाता है।

 अब तक आपने पढ़ा

  • अगर हम पहले से ही निवेश की गई किसी चीज़ में और निवेश करते चले जाते हैं, चाहे वह कोई आर्थिक निवेश हो या किसी निर्णय को लेने में किया गया प्रयास, तो उसे संक कॉस्ट फैलेसी कहते हैं। 
  • संक कॉस्ट वो लागत है जो पहले ही निवेश की जा चुकी हैं और उसे वापस नहीं लाया जा सकता है।
  • संक कॉस्ट फैलेसी इसलिए होती है क्योंकि हम तर्कसंगत निर्णय नहीं लेते और अक्सर हमारी भावनाओं से प्रभावित होते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo