2. सापेक्षता पूर्वाग्रह- यह अच्छा है क्योंकि वो खराब है

icon

सफल निवेशक अच्छी रणनीति और अच्छे आचरण के अलावा व्यवहार संबंधी पूर्वाग्रहों से बचने में भी अच्छे होते हैं। याद रखें, निवेश में व्यवहार संबंधी पूर्वाग्रह एक प्रमुख विषय है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारी जीवन शैली हमें एक विशेष तरीके से सोचना और कार्य करना सिखाती है और समय के साथ यह आपके निवेश व्यवहार की आदत या हिस्सा बन जाती है।

सापेक्षता पूर्वाग्रह तब होता है जब निवेशक अन्य सभी विचारों को छोड़ कर स्टॉक को खरीदने के किसी एक पहलू पर ध्यान केंद्रित करते हैं। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कई उपभोक्ताओं के लिए प्रोडक्ट की कीमत उससे जुड़े निर्णय लेने की प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण है।

अक्सर सापेक्षता पूर्वाग्रह का अनुभव करने वाले लोग:

  1. सिर्फ कीमत पर ध्यान केंद्रित करने के लिए किसी शेयर के संभावित लाभों को अनदेखा करते हैं।
  2. सक्रिय रूप से अन्य प्रलोभन की तलाश करते हैं।
  3. आसानी से बदलने वाली मूल्य निर्धारण संरचनाओं के लिए अच्छी प्रतिक्रिया देते हैं।

निवेश में, सापेक्षता जाल एक आम खतरा है। कुछ मूल्यांकन गुणक एक कंपनी को उसके समूह की दूसरी कंपनियों की तुलना में काफी किफायती दिखा सकते हैं। असल में, यह सिर्फ एक भ्रम हो सकता है- कंपनियां काफी हद तक अलग हो सकती हैं, एक ऐतिहासिक उदाहरण की तुलना में इसकी कीमत, बाजार में हुए बदलाव पर शायद ध्यान ना दें या कई महत्वपूर्ण कारक, जैसे बैलेंस शीट की स्थिति, को ध्यान में रखने में विफल हो सकते हैं। निवेश की दुनिया में इन सापेक्षता जालों को "मूल्य जाल" या “वैल्यू ट्रैप” के रूप में जाना जाता है।

सापेक्षता पूर्वाग्रह के कारण एक वित्तीय विश्लेषक या निवेशक अंडरवैल्यूड निवेश खरीदने या ओवरवैल्यूड निवेश बेचने जैसे गलत वित्तीय निर्णय ले सकते हैं। सापेक्षता पूर्वाग्रह वित्तीय निर्णय लेने की प्रक्रिया में, प्रमुख पूर्वानुमान निवेश, जैसे बिक्री मात्रा और कमोडिटी की कीमतों से लेकर नकदी प्रवाह और सिक्योरिटीज़ की कीमतों जैसे अंतिम परिणामों तक, कहीं भी मौजूद हो सकते हैं। 

ऐतिहासिक मूल्य, जैसे अधिग्रहण मूल्य, सामान्य सापेक्ष पूर्वाग्रह हैं। यह एक निश्चित उद्देश्य को पूरा करने के लिए आवश्यक हैं, जैसे लक्ष्य की प्राप्ति या एक निर्धारित आय राशि उत्पन्न करना। ये मूल्य, बाजार मूल्य निर्धारण से संबंधित नहीं होते और बाजार प्रतिभागियों के तर्कसंगत निर्णयों को अस्वीकार करने का कारण बनते हैं।

सापेक्ष पूर्वाग्रह मूल्यांकन गुणक, जैसे सापेक्ष मैट्रिक्स, के साथ मौजूद हो सकते हैं। प्रतिभूतियों की कीमतों का मूल्यांकन करने के लिए मूल मूल्यांकन गुणक का उपयोग करने वाले बाजार प्रतिभागी सापेक्ष पूर्वाग्रह का प्रदर्शन करते हैं और वे उन सबूतों की अनदेखी करते हैं जो बताते हैं कि कोई एक सिक्योरिटी, किसी दूसरी सिक्योरिटी से ज्यादा आय वृद्धि की संभावना रखती है।  

कुछ पूर्वाग्रह जैसे, पूर्ण ऐतिहासिक मूल्य और एक उद्देश्य को पूरा करने के लिए आवश्यक मूल्य, निवेश उद्देश्यों के लिए हानिकारक हो सकते हैं, और कई विश्लेषक निवेशकों को इस प्रकार के स्तंभों को अस्वीकार करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। बाजार के प्रतिभागी सूचना के अधिक भार के वातावरण में निहित जटिलता और अनिश्चितता का सामना करते हैं और ऐसे में अन्य स्तंभ सहायक हो सकते हैं। मार्केट प्रतिभागी इन स्तंभ या एंकर के पीछे के कारकों की पहचान करके और अनुमानों को मापने योग्य डाटा के साथ बदलकर सापेक्ष पूर्वाग्रह का मुकाबला कर सकते हैं।

बाजारों या सिक्योरिटीज़ की कीमत को प्रभावित करने वाले कारकों का व्यापक अनुसंधान और मूल्यांकन करके सापेक्ष पूर्वाग्रह को निवेश निर्णय लेने की प्रकिया से हटाया जा सकता है। मानव मस्तिष्क तुलनात्मक रूप से काम करता है और विभिन्न श्रेणियों में तुलना करना कठिन होता है। बाजार के जानकार अक्सर इसका फायदा उठाने की कोशिश करते हैं और उपभोक्ताओं को उनके लाभ को ज्यादा से ज्यादा करने के लिए उन्हें खरीदारी या खर्च करने से जुड़े निर्णय लेने के लिए कहते हैं।

एक रेस्तरां एक वैल्यू सैंडविच ₹40, रेगुलर सैंडविच ₹80 और एक प्रीमियम बर्गर ₹150 में बेचता है। सापेक्षता जाल यह सुनिश्चित करेगा कि ज्यादातर लोग रेगुलर बर्गर का विकल्प चुनें क्योंकि वे  इसे सबसे अच्छी वैल्यू मानते हैं।

उपभोक्ता मान सकता है कि वैल्यू सैंडविच की कीमत इसलिए कम है क्योंकि वो बाकियों के मुकाबले खास नहीं है और प्रीमियम सैंडविच की बाकी विकल्पों से तुलना की जाए, तो उसकी कीमत, उसकी वैल्यू के हिसाब से कुछ ज्यादा है। हालांकि अगर प्रीमियम सैंडविच की कीमत ₹90 तक होती, तो पर्याप्त संख्या में लोग इसे इस आधार पर चुनते कि प्रीमियम बर्गर एक्सट्रा ₹50 रुपए खर्च करने के लायक है।  यह भी एक सापेक्षता जाल ही है।

सापेक्षता जाल का एक अन्य उदाहरण, अधिकांश कपड़ों की दुकानों द्वारा अपनाया गया मूल्य निर्धारण मॉडल है। अगर एक जींस की नियमित कीमत ₹999 है, तो स्टोर कीमत को ₹1999 दिखाएगा, लेकिन बाद में उन्हें 50% तक छूट देगा ताकि ‘सेल’ में इसकी कीमत अब  ₹999 हो जाए।

निष्कर्ष

अब जब आप सापेक्ष पूर्वाग्रह का अर्थ जान गए हैं, तो हम अगले विषय पर आगे बढ़ते हैं, जो है: उबले पानी में मेंढक। अधिक जानने के लिए अगले अध्याय पर जाएं।  

अब तक आपने पढ़ा

  1. सापेक्षता पूर्वाग्रह तब होता है जब निवेशक अन्य सभी विचारों को छोड़ कर, स्टॉक को खरीदने के किसी एक पहलू पर ध्यान केंद्रित करते हैं। 
  2. बाजारों या सिक्योरिटीज़ की कीमत को प्रभावित करने वाले कारकों का व्यापक अनुसंधान और मूल्यांकन करके सापेक्ष पूर्वाग्रह को निवेश निर्णय लेने की प्रकिया से हटाया जा सकता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo