Module for शुरुआती

व्यक्तिगत वित्त

2. पर्सनल फाइनेंस की नींव: कर, बीमा, निवेश और अन्य सरकारी योजनाएं

icon

पर्सनल फाइनेंस एक सीधा कॉन्सेप्ट नहीं है। इसमें कई पहलू शामिल हैं जो एक साथ मिलकर आपको समझदारी से फाइनेंशियल प्लान बनाने में मदद करता है। फाइनेंशियल प्लान को बनाने के लिए आपके जैसे व्यक्तियों को पर्सनल फाइनेंस के कई मैट्रिक्स और पहलुओं से अवगत होना चाहिए। करों से लेकर निवेश तक,  ये सभी पर्सनल फाइनेंस के लिए अनिवार्य हैं। औसत भारतीय निवेशक अक्सर इसकी पूरी जानकारी से अनजान होते हैं।

निश्चित रूप से  यह सभी को पता है कि जब टैक्स भरने का समय आता है तो आपको सभी ज़रूरी दस्तावेज़ कंपनी के मानव संसाधन विभाग में जमा करने होते हैं। लेकिन इसके अलावा, आप अपने टैक्स के बारे में कितना जानते हैं? और आप भारत में उपलब्ध निवेश विकल्पों के बारे में कितने जागरूक हैं? अगर आप पर्सनल फाइनेंस की इन ज़रूरतों के बारे में बहुत ज़्यादा नहीं जानते हैं, तो इसके बारे में चिंता न करें। यह मॉड्यूल विशेष रूप से पर्सनल फाइनेंस के इन सभी प्रमुख पहलुओं को समझने में आपकी मदद करने के लिए ही बनाया गया है ताकि जब आप अपने भविष्य के लिए वित्तीय योजना तैयार करें तो इन सभी चीजों को ध्यान में रखें।

चलिए करों के बारे में जानना शुरू करते हैं।

भारत में कर

भारत में कर मूल रूप से दो प्रकार के होते हैं - डायरेक्ट और इनडारयरेक्ट। डायरेक्ट कर वे कर हैं जो आप सीधे सरकार को देते हैं, जैसे आयकर। इनडायरेक्ट कर ऐसे कर हैं जिन्हें आपकी ओर से इकट्टठा कर सरकार को भुगतान किया जाता है, जैसे जीएसटी। व्यक्तिगत तौर पर, आपको इन दोनों करों का चुकाने की आवश्यकता होती है। 

लेकिन वास्तव में, आपको इनडायरेक्ट करों  के लिए योजना बनाने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आप इसे सामान के विक्रेता या सेवा के प्रदाता को पैसा चुकाते समय इसका भुगतान कर ही देते हैं। उदाहरण के तौर पर, मानिए आप सोनी के शोरूम से एक टीवी खरीदते हैं। सामान की कीमत ₹20,000 है लेकिन आप इस पर 18% अधिक भुगतान करते हैं। इसे आप अपने बिल पर जीएसटी  के रूप में लिखा पाएंगे। यह इनडायरेक्ट कर का एक उदाहरण है। अब, अगर आप एक व्यवसाय के मालिक हैं  तो आपको इकट्ठा हुए जीएसटी को सरकार को जमा करना होगा।

वहीं आपको डायरेक्ट करों को और बेहद अच्छी तरह समझने की आवश्यकता होती है– चाहे आप स्व-रोजगार या वेतनभोगी हों। डायरेक्ट कर, वह कर हैं जो आप अपनी अर्जित आय पर चुकाते हैं। आम बोलचाल में यह आयकर के रूप में जाना जाता है।  उदाहरण के लिए अगर आप एक वेतनभोगी कर्मचारी हैं जो प्रति महीने ₹40,000 कमाते हैं, तो आपको हर वित्तीय वर्ष में अपनी आय पर कुल ₹4,80,000 आयकर का भुगतान करना होगा।

कर की दर क्या है? क्या कोई कटौती या रियायतें उपलब्ध हैं? और भारतीय कर प्रणाली की  ऐसी कौन सी चीजें हैं जो आपको जानने की आवश्यकता है? ये कुछ ऐसे सवाल हैं, जिन्हें हम पर्सनल फाइनेंस की ज़रूरतों पर आधारित अगले अध्यायों में बताएंगे।

बीमा: पर्सनल फाइनेंस का प्रमुख तत्व

बीमा पर्सनल फाइनेंस का एक अन्य महत्वपूर्ण तत्व है। ज्यादातर लोग इसे केवल टैक्स-बचत साधन के रूप में देखते हैं। निश्चित रूप से  बीमा आपकी कर देनदारी को कम करने में मदद करता है क्योंकि आपके द्वारा अपने बीमा कवरेज के प्रीमियम को आपकी आय से घटाया जा सकता है, जिससे आपके कर कम हो जाएंगे। लेकिन क्या बीमा सिर्फ इसलिए ही है? बिल्कुल नहीं।

बीमा आपको एक सुरक्षा कवच प्रदान करता है। उदाहरण के लिए जीवन बीमा, आपके जीवन का बीमा करता है। और अगर कुछ अनहोनी होती है, तो यह सुनिश्चित करेगा कि आपके परिवार को आपकी अनुपस्थिति में वित्तीय सुरक्षा मिल सके। एक अन्य प्रकार का बीमा भी है, जिसे जेनेरल इंश्योरेंस के तौर पर जाना जाता है। इसमें गैर-जीवन संपत्ति के लिए एक सुरक्षात्मक कवर लेना शामिल है, जैसे आपका घर, आपकी कार या आपका दोपहिया वाहन, आपके यात्राएं और यहां तक ​​कि आपका स्वास्थ्य।

हम इस मॉड्यूल के बाद के अध्यायों में इस प्रकार के बीमा के बारे में जानेंगे।  

भारत में निवेश

पर्सनल फाइनेंस आवश्यकताओं पर किसी भी चर्चा में निवेश तो शामिल होगा ही। यह आपके पैसे को सिर्फ बचाने से आगे ले जाकर उसे बढ़ाने का एक आज़माया और परखा हुआ तरीका है। और भारतीय परिदृश्य में ऐसे कई उपकरण और योजनाएं हैं, जिनमें आप निवेश कर सकते हैं। आइए कुछ ऐसे निवेश विकल्पों पर नज़र डालते हैं।

डायरेक्ट इक्विटी

  • जोखिम: उच्च
  • रिटर्न: आमतौर पर लंबी अवधि में उच्च
  • किनके लिए बेस्ट: ऊँची रिस्क प्रोफाइल वाले निवेशकों के लिए

म्यूचुअल फंड्स

  • जोखिम: आपके फंड के आधार पर, कम से ज़्यादा के बीच बदलता है 
  • रिटर्न: पूंजी बाज़ारों से जुड़ा हुआ
  • किनके लिए बेस्ट: विविधता चाहने वाले निवेशकों के लिए

बैंक फिक्स्ड डिपॉज़िट

  • जोखिम: कम
  • रिटर्न: निश्चित रिटर्न जिसकी दर हर बैंक पर निर्भर है 
  • किनके लिए बेस्ट: सुरक्षित और गारंटित रिटर्न चाहने वाले निवेशकों के लिए

RBI बॉन्ड

  • जोखिम: शून्य
  • रिटर्न: वर्तमान में, प्रति वर्ष 7.75% 
  • किनके लिए बेस्ट: बिल्कुल रिस्क ना लेने वाले निवेशकों के लिए

रियल एस्टेट

  • जोखिम: मध्यम से उच्च, लेकिन स्थान और संपत्ति के प्रकार पर निर्भर करता है
  • रिटर्न: स्थान और संपत्ति के प्रकार पर निर्भर करता है
  • किनके लिए बेस्ट: लंबी अवधि और गैर-वित्तीय निवेश विकल्पों की तलाश कर रहे निवेशकों के लिए

सोना

  • जोखिम: कम
  • रिटर्न: सोने के बाज़ार से जुड़ा हुआ
  • किनके लिए बेस्ट: तरल और  गैर-वित्तीय निवेशों की तलाश करने वाले निवेशकों के लिए

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP)

  • जोखिम: मध्यम से उच्च
  • रिटर्न: पूंजी बाज़ारों से जुड़ा हुआ
  • किनके लिए बेस्ट: निवेशक जो एक ही योजना से बीमा लाभ और निवेश का आनंद लेना चाहते हैं

भारत में सरकारी योजनाएं

बताए गए निवेश विकल्पों के अलावा  भारत सरकार द्वारा शुरू की गई कई बचत योजनाएं भी हैं और सरकार द्वारा समर्थित होने की वजह से आम तौर पर इसमें कोई जोखिम नहीं होता है। यहां ऐसी ही कुछ सरकारी योजनाओं की एक सूची दी गई है।

  • सार्वजनिक भविष्य निधि/ पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF)
  • राष्ट्रीय बचत पत्र/ नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)
  • वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (SCSS)
  • डाकघर मासिक आय योजना (POMIS)
  • राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (NPS)
  • कर्मचारी भविष्य निधि (EPF)
  • सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)
  • किसान विकास पत्र (KVP)

निष्कर्ष

तो यह अध्याय पर्सनल फाइनेंस आवश्यकताओं की नींव रखता है। व्यापक फाइनेंशियल प्लान को तैयार करने के लिए इन सभी पहलुओं में से कुछ तत्वों को शामिल करना हमेशा सही रहता है ताकि आप अपने भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए एक अच्छी योजना बना सकें। अब जब आप जानते हैं कि पर्सनल फाइनेंस के प्रमुख तत्व क्या हैं, तो अब इसके विस्तार में जाने का समय आ गया है। अगले अध्याय में  आपको भारत की कर प्रणाली के बारे में तमाम जानकारियाँ मिल जाएंगी। पढ़ते रहिए।

अब तक आपने पढ़ा

  • भारत में कर मूल रूप से दो प्रकार के होते हैं - डायरेक्ट और इनडायरेक्ट
  • डायरेक्ट कर वे कर हैं जो आप सरकार को सीधे भुगतान करते हैं, जैसे आयकर।
  • इनडायरेक्ट कर वे कर हैं जो आपकी तरफ से इकट्ठा कर सरकार को भुगतान किए जाते हैं। जैसे जीएसटी
  • बीमा पर्सनल फाइनेंस का एक अन्य महत्वपूर्ण तत्व है। अधिकांश लोग इसे केवल कर-बचत उपकरण के रूप में देखते हैं। बीमा आपको एक सुरक्षा कवच भी प्रदान करता है।
  • बीमा दो प्रकार के होते हैं- जीवन बीमा और सामान्य बीमा।
  • निवेश के लिए  ऐसे कई उपकरण और योजनाएं हैं जिन्हें आप भारतीय निवेशक के रूप में निवेश कर सकते हैं।
  • कुछ उदाहरणों में फिक्स्ड डिपॉजिट, डायरेक्ट इक्विटी, म्यूचुअल फंड और यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान शामिल है।
  • EPF, PPF, NPS, NSC और KVP जैसी कई सरकारी बचत योजनाएं भी है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo