1. क्या वास्तव में कोई परफेक्ट रणनीति मौजूद है?

icon

सबसे अच्छी निवेश रणनीति हमेशा वह नहीं होती है जिसका उपयोग करके लोगों ने बेहतरीन ऐतिहासिक रिटर्न कमाए हों। बल्कि सबसे अच्छी रणनीति वह है जो व्यक्तिगत निवेशक के उद्देश्यों और रिस्क झेलने की क्षमता पर फिट बैठे और उसी हिसाब से काम करे। दूसरे शब्दों में कहें तो, निवेश करने की रणनीति, खाने की डाइट की तरह होती है, सबसे अच्छी रणनीति वही होती है जो आपके लिए सबसे अच्छा काम करती है।

और साथ ही, आप एक निवेश रणनीति को लागू करने के बाद उसे बीच में सिर्फ इसलिए छोड़ना नहीं चाहेंगे क्योंकि आपको ऑनलाइन एक नए ट्रेंड का पता लगता है। आपको सिर्फ हर महीने आने वाली और कुछ ज्यादा ही अच्छे दिखने वाले ट्रेंड से भ्रमित नहीं होना चाहिए। बल्कि आपको बहुत लंबे समय से चले आ रहे मूल ट्रेंड और रणनीतियों पर ध्यान देना चाहिए जिन्हें कई लोगों ने टेस्ट भी कर रखा हो।

अगर हम एक और जाने-पहचाने उदाहरण को लें तो, निवेश शैली और रणनीति उन कपड़ों की तरह है जो आपको सबसे फिट बैठते है। आपको किसी महंगे या खास दर्जी के बनाए हुए कपड़ो की जरुरत नहीं है; आपको बस वही आरामदायक कपड़े चाहिए जो लंबे समय तक चलें, खासकर तब जब आपका निवेश उद्देश्य लॉन्ग-टर्म (10 वर्ष या अधिक) का है।

इसीलिए किसी भी चीज़ के लिए प्रतिबद्ध होने से पहले, चाहे वह डाइट हो, कपड़े हों, या निवेश रणनीति हो, यह जरूर देख लेना चाहिए कि आपके व्यक्तित्व और स्टाइल के लिए सबसे बेस्ट क्या है और आपको क्या सूट करेगा। आप नीचे दी गई इन टॉप पाँच निवेश रणनीतियों पर विचार करके शुरू कर सकते हैं। इनमें से कुछ सिद्धांत, शैली और रणनीति हैं, जो आपको म्यूचुअल फंड या ईटीएफ पोर्टफोलियो को बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

सर्वश्रेष्ठ निवेश रणनीतियाँ: विकास निवेश (ग्रोथ इन्वेस्टिंग)

हम मौलिक विश्लेषण का उपयोग करते हुए विकास निवेश से शुरूआत करते हैं क्योंकि यह निवेश शैलियों के सबसे पुराने और सबसे बुनियादी रूपों में से एक है। विकास निवेश एक सक्रिय निवेश रणनीति है जिसमें स्टॉक की आधार कंपनी के बारे में वित्तीय विवरणों और मूलभूत कारकों का विश्लेषण करना शामिल है। इसका काम एक ऐसी कंपनी की पहचान करना है, जिसके बिजनेस मेट्रिक्स में आपको इस बात के सबूत दिखाई दे रहे हों कि आने वाले सालों मे यह काफी हद तक ऊपर उठेगी या आगे बढ़ेगी। निवेश की यह शैली एक इंडेक्स फंड का चयन करने के बजाय, 10 या ज्यादा व्यक्तिगत स्टॉक के पोर्टफोलियो का निर्माण करने पर ध्यान देती है।

वैसे इस निवेश रणनीति के लिए निवेशक को काफी समय लगाना पड़ सकता है क्योंकि इसे सफल बनाने के लिए बहुत रिसर्च करने की जरूरत होती है। हालाँकि, यह रणनीति, या इसका एक वेरिएशन ज़्यादातर प्रोफेशनल फंड मैनेजर के लिए कमाई का जरिया है जिससे वो अपने काम से रिटर्न्स कमाते हैं।  

ग्रोथ स्टॉक आमतौर पर बाजार चक्र के मैच्योर चरणों में सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हैं जब अर्थव्यवस्था एक अच्छी रेट से बढ़ रही होती है। विकास रणनीति यह दिखाती है कि निगम, उपभोक्ता और निवेशक सभी स्वस्थ अर्थव्यवस्था में एक समय पर क्या कर रहे हैं, जो है भविष्य में ग्रोथ की बढ़ती ज्यादा उम्मीद और इसे निभाने के लिए पैसे खर्च।टेक्नोलॉजी कंपनियां यहां अच्छे उदाहरण हैं। उनकी वैल्यू आमतौर पर बहुत ज्यादा आँकी जाती है, पर वह इस तरह के मूल्यांकन से भी ज्यादा आगे निकल जाती हैं, बशर्ते माहौल सही हो। 

फाइनेंशियल स्टेटमेंट से मिले डाटा को किसी व्यवसाय की तुलना उसके अतीत और वर्तमान डाटा या इंडस्ट्री के अंदर के अन्य व्यवसायों के साथ करने के लिए उपयोग किया जाता है। डाटा का विश्लेषण करके निवेशक किसी विशेष कंपनी के स्टॉक के उचित मूल्यांकन (कीमत) पर पहुंच सकता है और यह निर्धारित कर सकता है कि यह स्टॉक एक अच्छी खरीद है या नहीं।

 सर्वश्रेष्ठ निवेश रणनीतियाँ: सक्रिय ट्रेडिंग (एक्टिव ट्रेडिंग)

एक्टिव ट्रेडिंग बहुत मुश्किल है। इसका प्रयास करने वाले लोगो में से 5 प्रतिशत से भी कम लोगों के पास इस स्ट्रेटर्जी की सफलता मापने का वाजिब तरीका होता है, और सिर्फ 1 % ट्रेडर्स ही इसके जरिये बहतरीन रिटर्न कमा पाते हैं, लेकिन जो लोग इस तरह के रिटर्न को प्राप्त कर पाते हैं, यकीन मानिए वह बहुत ज्यादा पैसा कमा सकते हैं। सक्रिय ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा बार उपयोग किया जाने वाला एक टर्म है टेक्निकल एनालिसिस। यह रिसर्च टूल स्टॉक के मूल्य में हुए बदलावों पर फोकस करता है ना कि अंतर्निहित व्यापार से जुड़े मापों पर। इस तरह व्यापारी शॉर्ट-टर्म ट्रेड से भी लाभ उठा सकते हैं और अपनी रणनीतियों के साथ लेवरेज का फायदा उठा सकते हैं। 

ट्रेडर्स किसी भी समय सीमा में काम कर सकते हैं चाहे वह महीने हों, दिन हो, मिनट हों या फिर सेकेंड ही क्यों ना हो। वे अक्सर हाल के मूल्य पैटर्न और संबंधित बाजार के रुझान को पहचानने के लिए एक्सचेंज फीड या चार्टिंग प्लेटफॉर्म से मूल्य डाटा का उपयोग करते हैं। वह भविष्य के मूल्य चाल की भविष्यवाणी करने के लिए इनका उपयोग करते हैं। चूंकि कोई संकेत अचूक नहीं होते, यानी जरूरी नहीं है कि हर इंडिकेटर हमेशा सही ही हो, इसीलिए एक व्यापारी को अपने व्यापार के लिए रिस्क, रिवार्ड और हार-जीत की दर के लिए वह पैमाने बनाने चाहिए जो उसे स्वीकार्य हो और जो वह झेल सके। हालांकि तकनीकी विश्लेषण सक्रिय व्यापारियों के लिए प्राथमिक उपकरण हो सकता है, और मौलिक विश्लेषण विकास निवेशकों के लिए प्राथमिक उपकरण हो सकता है, लेकिन दोनों तरह के व्यापारी अक्सर ही इन दोनों उपकरणों का उपयोग करते हैं।

सक्रिय ट्रेडिंग का एक धीमी गति वाला संस्करण भी है जो पेशेवर मनी मैनेजरों के लिए अधिक स्वीकार्य है, उससे विशेष फंड के लिए और व्यक्तिगत निवेशकों द्वारा भी नियोजित किया जा सकता है। इस रणनीति को मोमेंटम इन्वेस्टिंग के रूप में जाना जाता है। यह रणनीति स्वीकार करती है कि अनियमित मूल्य चाल में भी ट्रेंड नजर आते हैं और उनका फायदा उठाया जा सकता है। कई महीनों तक चलने की उम्मीद रखने वाले लॉन्ग-टर्म निवेश इस आशा के साथ शुरू किए जाते हैं कि मोमेंटम का निर्माण जारी रहेगा और कीमत उसी दिशा में बढ़ेगी। आमतौर पर, और विशेष रूप से मोमेंटम रणनीति का फायदा उठाने के लिए डिजाइन किए गए म्यूचुअल फंड के साथ, आइडिया ये होता है कि ‘ऊंची कीमत पर खरीदें और उससे भी ऊंची कीमत पर बेचें।’ उदाहरण के लिए, एक म्यूचुअल फंड मैनेजर ऐसे ग्रोथ स्टॉक की तलाश करता है, जिसमें लगातार कीमत में बढ़ोतरी का रुझान दिखा हो और आगे भी इसी ट्रेंड के जारी रहने की उम्मीद हो।  

सर्वश्रेष्ठ निवेश रणनीतियाँ: मूल्य निवेश (वैल्यू इन्वेस्टिंग)

म्यूचुअल फंड और ईटीएफ निवेशक, वैल्यू स्टॉक म्यूचुअल फंड का उपयोग करके मौलिक निवेश रणनीति या शैली को नियोजित कर सकते हैं। सीधे शब्दों में कहें तो, मूल्य निवेशक (वैल्यू इन्वेस्टर) "डिस्काउंट पर मिलने वाले शेयरों की तलाश में रहते हैं",  वे मोल-भाव करना चाहते हैं। वैल्यू स्टॉक्स को ढूँढने और कंपनी के फाइनेंशियल स्टेटमेंट के विश्लेषण में समय बिताने के बजाय, एक म्यूचुअल फंड निवेशक इंडेक्स फंड, एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ), या सक्रिय रूप से प्रबंधित फंड खरीद सकता है जिनमें वैल्यू स्टॉक शामिल होते हैं। हालांकि, इन सिक्योरिटीज में अभी भी वही मार्केट और लिक्विडिटी रिस्क हैं जो वैल्यू स्टॉक में होता हैं, इसलिए ड्यू डिलिजेंस की जरूरत होती है।

सर्वश्रेष्ठ निवेश रणनीतियाँ: खरीदें और होल्ड करें (बाय और होल्ड)

बाय और होल्ड निवेशक ये मानते हैं कि ‘बाजार में समय बिताना’, ‘बाजार में सटीक समय पहचानने’ से ज्यादा बेहतर निवेश शैली है। इस रणनीति को निवेश सिक्योरिटी को खरीदने और उन्हें लंबे समय तक होल्ड करने के लिए लागू किया जाता है क्योंकि निवेशकों का मानना है कि छोटी अवधि की अस्थिरता के बावजूद दीर्घकालिक रिटर्न अच्छा व उचित हो सकता है। यह रणनीति बाजार के सटीक समय पहचानने का विरोध करती है, जिसमें आमतौर पर निवेशक कम कीमतों पर खरीदने और ज्यादा कीमतों पर बेचने के इरादे से छोटी अवधि में खरीद और बिक्री करता है।

बाय-एंड-होल्ड निवेशक यह तर्क देगा कि लंबी अवधि में होल्ड करने में दूसरी रणनीतियों की तुलना में कम ट्रेडिंग की जरूरत होती है। इसलिए यहाँ ट्रेडिंग लागत भी कम आती है जिसकी वजह से निवेश पोर्टफोलियो के नेट रिटर्न में वृद्धि होती है।

जो पोर्टफोलियो बाय-एंड-होल्ड की रणनीति को लागू करते हैं, उन्हें उनके कम रखरखाव, निष्क्रिय प्रकृति के कारण आलसी या लेजी पोर्टफोलियो कहा जाता है।

कोर और सैटेलाइट: कोर और सैटेलाइट एक आम और टाइम-टेस्टेड निवेश पोर्टफोलियो डिज़ाइन है जिसमें "कोर" शामिल होता है, जैसे लार्ज-कैप स्टॉक इंडेक्स म्यूचुअल फंड, जो पोर्टफोलियो के सबसे बड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है, और अन्य प्रकार के फंड, ‘सैटेलाइट’ फंड पोर्टफोलियो के छोटे हिस्सों से मिलकर बनते है। इस पोर्टफोलियो डिजाइन का प्राथमिक उद्देश्य विविधीकरण के जरिए जोखिम को कम करना है और साथ ही प्रदर्शन के लिए मानक बेंचमार्क जैसे कि एसएंडपी 500 इंडेक्स की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करना (उच्च रिटर्न प्राप्त करना) है। कुल मिलाकर, एक कोर और सैटेलाइट पोर्टफोलियो, निवेशक के लिए औसत से कम रिस्क के साथ औसत से ज्यादा रिटर्न प्राप्त करने का लक्ष्य रखते हैं।

डेव रैमसे पोर्टफोलियो: लोकप्रिय टॉक शो होस्ट और सम्मानित व्यक्तिगत वित्त गुरु डेव रैमसे ने अपने श्रोताओं और प्रशंसकों के लिए चार म्यूचुअल फंड पोर्टफोलियो रणनीति का लंबे समय से समर्थन किया है। डेव की बुद्धि उनकी सादगी में है; उनकी डिलीवरी और वित्तीय तरीकों को समझना आसान है। हालांकि, बुद्धि सिर्फ यहीं तक सीमति है। इन चार म्यूचुअल फंड प्रकारों में अक्सर ओवरलैप मिलेगा, जिसका मतलब है कि इनमें विविधता कम है। इसके अलावा, कम जोखिम वाले एसेट, जैसे बॉन्ड और नकद, पूरी तरह से पोर्टफोलियो से गायब है।

मॉडर्न पोर्टफोलियो थ्योरी: मॉडर्न पोर्टफोलियो थ्योरी (एमपीटी) एक निवेश पद्धति है, जहां निवेशक एक निवेश पोर्टफोलियो के लिए ज्यादा से ज्यादा रिटर्न कमाने के लिए कम से कम मार्केट रिस्क लेने की कोशिश करता है। एक निवेशक जो एमपीटी के सिद्धांतों का पालन करता है, एक कोर और सैटेलाइट अप्रोच का उपयोग कर सकता है, जैसा कि ऊपर बताया गया है। इन निवेश पद्धति का मूल है कि हर निवेशक बिना ज्यादा जोखिम लिए ऊँचे रिटर्न प्राप्त करना चाहता है। लेकिन यह कैसे किया जा सकता है ? इसका उत्तर है विविधिकरण। एमपीटी के अनुसार, एक निवेशक एक विशेष प्रकार के एसेट जैसे म्यूचुअल फंड, या सिक्योरिटी जिसमें व्यक्तिगत रूप से ज्यादा रिस्क है, उसे ले सकता है लेकिन जब कई अन्य एसेट प्रकारों या निवेशों के साथ इन्हें मिलाया जाता है तो पूरा पोर्टफोलियो इस तरह से संतुलित हो जाता है कि इसका जोखिम अंतर्निहित एसेट या निवेशों की तुलना में कम हो जाता है।

पोस्ट-मॉडर्न पोर्टफोलियो थ्योरी (पीएमपीटी): पीएमपीटी और एमपीटी के बीच मे अंतर यह होता है कि वह किस तरह से जोखिम को परिभाषित करते हैं और इस इसी रिस्क के आधार पर पोर्टफोलियो का निर्माण करते हैं। पीएमपीटी सिमिट्रिकल रूप से रिस्क को देखता है, पोर्टफोलियो निर्माण में कई अलग-अलग रिस्क स्तर वाले अलग-अलग निवेश शामिल होते हैं, जो एक साथ आकर एक अच्छा रिटर्न देते हैं। इससे हमे रिस्क और रिटर्न की पूरी स्थिति का सही पता लगता है। एक पीएमपीटी निवेशक रिस्क को एसिमिट्रिकल रूप से देखता है; जिस तरह से निवेशक नुकसान के बारे में सोचते व महसूस करते है वो उनके लाभ की भावनाओं का बिलकुल विपरीत नहीं है और हर मार्केट व आर्थिक स्थिति अलग होती है वो लगातार विकसित होती रहती है।पीएमपीटी देखता है कि निवेशक हमेशा तर्कसंगत रूप से कार्य नहीं करते हैं। इसलिए पीएमपीटी निवेशक झुंड के व्यवहार संबंधी पहलुओं को ध्यान में रखता है, न एमपीटी की करह केवल गणितीय मॉडल फॉलो नहीं करता है।

टैक्टिकल एसेट एलोकेशन: टैक्टिकल एसेट एलोकेशन यहां बताई गई कई पिछली शैलियों का जोड़ है। यह एक निवेश शैली है जहां तीन प्राथमिक एसेट वर्गों (स्टॉक, बॉन्ड और कैश) को निवेशक द्वारा सक्रिय रूप से संतुलित और समायोजित किया जाता है, जिससे पोर्टफोलियो से ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सके और इंडेक्स जैसे बेंचमार्क की तुलना में जोखिम को कम हो सके। यह निवेश शैली तकनीकी विश्लेषण और मौलिक विश्लेषण से अलग है, यहाँ पहले मुख्य रूप से एसेट आवंटन पर ध्यान दिया जाता है और फिर निवेश के चयन पर। यहां बड़ी तस्वीर पर ध्यान देने के पीछे अच्छा कारण होता है, कम से कम एक टैक्टिकल एसेट एलोकेशन रणनीति चुनने वाले निवेशक के नजरिए से तो यही लगता है। 

निष्कर्ष

निवेश की रणनीति या शैली चुनना निवेश चुनने से अलग नहीं है: हर निवेशक अलग और खास है और सबसे अच्छी रणनीति वह है जो वह अपने निवेश उद्देश्यों और रिस्क झेलने की क्षमता के हिसाब से अपने लिए चुनता है।

अब तक आपने पढ़ा

  • मूल्य निवेश के लिए निवेशकों को दीर्घकालिक रूप से इसमें बने रहने और अपने स्टॉक चयन के लिए प्रयास और शोध करने की आवश्यकता होती है।
  • विकास रणनीतियों का पालन करने वाले निवेशकों को कार्यकारी टीमों और अर्थव्यवस्था के बारे में समाचारों पर नजर रखनी चाहिए।
  • मोमेंटम निवेशक अपट्रेंड वाले शेयरों को खरीदते हैं और उन सिक्योरिटीज को शॉर्ट सेल करते हैं।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo