3. निवेश से पहले: उद्योग की अच्छी समझ

icon

शेयर बाज़ार में निवेश कैसे करें? यहां पर आपको यह जानकर मज़ा आएगा कि मशहूर वॉरेन बफे भी यह काम करते हैं - वह केवल उन व्यवसायों में निवेश करते हैं जिसे वे अच्छी तरह समझते हैं। जब आप इसे करीब से देखते हैं, तो यह एक बेहद सरल निवेश रणनीति लगती है, है ना? लेकिन किसी भी व्यवसाय के बारे में पढ़ने  या स्टॉक मार्केट रिसर्च की शुरुआत करने से पहले, आपको उस व्यवसाय के उद्योग/ इंडस्ट्री को समझना ज़रूरी होगा। यहीं पर इंडस्ट्री रिसर्च  की शुरुआत होती है।

जब सब कुछ सही से किया जाता है, तो इंडस्ट्री एनालिसिस या उद्योग विश्लेषण आपको अर्थव्यवस्था के उभरते क्षेत्रों को आसानी से पहचानने में मदद कर सकता है। इसे व्यापार विश्लेषण/ बिज़नेस एनालिसिस और मार्केट रिसर्च के साथ जोड़कर देखेंगे तो आप खुद को एक बेहतर निवेश निर्णय लेने की स्थिति में पाएँगे। 

इंडस्ट्री एनालिसिस या उद्योग विश्लेषण के तह तक जाने के लिए इन मूल बातों को समझ लेते हैं।

उद्योग/ इंडस्ट्री क्या है?

उद्योग/ इंडस्ट्री शब्द का उपयोग ऐसी कंपनियों के ग्रुप को सामूहिक रूप से वर्गीकृत करने के लिए किया जाता है जो समान उत्पाद या सेवाएं प्रदान करते हैं। आइए इस शब्द को बेहतर ढंग से समझने के लिए एक उदाहरण देखें। इन कंपनियों के बीच समान बात क्या है - टीवीएस मोटर कंपनी, बजाज ऑटो और हीरो मोटोकॉर्प?

हां, आपने सही अनुमान लगाया! ये तीनों कंपनियां दो-पहिया और तीन-पहिया मोटर-वाहन का निर्माण करती हैं। इसलिए, इन तीन कंपनियों को सामूहिक रूप से टू और थ्री-व्हीलर ऑटोमोबाइल उद्योग से संबंधित माना जाता है।

क्या इंडस्ट्री और सेक्टर एक समान है?

हालांकि, इन दो शब्दों का उपयोग कभी-कभी समान रूप से किया जाता है, लेकिन वे पूरी तरह से एक समान नहीं हैं। सेक्टर असल में संबंधित उद्योगों का एक समूह है। जैसे, ऊपर दिए गए उदाहरण में तीन कंपनियां दो/ तीन- पहिया वाहन उद्योग का हिस्सा हैं। दूसरी ओर, मारुति सुजुकी, पैसेंजर कार ऑटोमोबाइल उद्योग का एक हिस्सा है और अशोक लीलैंड ट्रक और एलसीवी ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री से संबंधित है।

हालांकि ये कंपनियां अलग-अलग तरह के उत्पादों का निर्माण करती हैं, फिर भी वे एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं क्योंकि वे सभी ऑटोमोबाइल के उत्पादन से संबंधित हैं। इसलिए, हम एक जैसे उद्योगों में लगी इन सभी कंपनियों को सामूहिक रूप से बताने के लिए 'ऑटोमोबाइल सेक्टर' शब्द का उपयोग करते हैं। ऑटोमोबाइल सेक्टर में ऐसी कंपनियां भी शामिल हैं जो टायर और बैटरी जैसे सहायक ऑटोमोबाइल पार्ट्स का निर्माण करती हैं।

इंडस्ट्री एनालिसिस/ उद्योग विश्लेषण की शुरुआत 

अब जब आप जान चुके हैं कि एक इंडस्ट्री और एक सेक्टर क्या हैं, तो यह समझने की कोशिश करते हैं कि निवेश करने के निर्णय लेने से पहले किसी इंडस्ट्री का विश्लेषण कैसे कर सकते हैं।  इस तरह के विश्लेषण के पीछे मुख्य कारण उन उद्योगों की पहचान करना है जो आपके निवेश को बढ़ाने की अधिकतम संभावना रखते हैं। यह शेयर बाज़ार में निवेश करने के तरीके जानने की ओर एक अहम कदम है।

यहां पर आपको इंडस्ट्री और इसके भविष्य की संभावनाओं का विश्लेषण करने के लिए  चरणबद्ध तरीका बताया गया है: 

सही सेक्टर और उद्योग का पता लगाएँ

इंडस्ट्री एनालिसिस की प्रक्रिया शुरू करने के लिए, उस क्षेत्र को चुनें जिसमें आप विशेष रूप से रुचि रखते हैं। इस सेक्टर के अलग-अलग उद्योगों को जानने के लिए कुछ समय निकालें। जब आप ये काम कर रहे हों तो इस बात पर भी ध्यान दें कि ये सेक्टर अर्थव्यवस्था के दूसरे क्षेत्रों की तुलना में कैसा प्रदर्शन कर रहा है। 

एक बार जब आप इस सेक्टर की पहचान कर उसका विश्लेषण कर लेते हैं, तो उस सेक्टर के भीतर एक उद्योग पर ध्यान देने का समय आता है। उदाहरण के लिए, अगर आप स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को लेते हैं, तो आप अपने विश्लेषण में फार्मा इंडस्ट्री (दवा उद्योग) पर ध्यान दे सकते हैं।     

रिपोर्ट और आंकड़ों की जांच करें

सही उद्योग चुनने के बाद, आपको उस उद्योग से संबंधित सभी अहम विषयों को पढ़ने और उनकी समीक्षा करने की ज़रूरत होती है। इंडस्ट्री रिपोर्ट और आंकड़ों को अच्छी तरह देखना एक अच्छी शुरुआत है क्योंकि ये विस्तार से जानकारी और गहन विश्लेषण की सुविधा देते हैं। अध्ययन से मिले डाटा का उपयोग आप उद्योग की वर्तमान स्थिति और भविष्य की संभावनाओं का अनुमान लगाने के लिए कर सकते हैं।

कहा गया है, ऐतिहासिक रिपोर्टों की बजाय हालिया रिपोर्टों पर अधिक ध्यान देना करना हमेशा एक अच्छा आइडिया  होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कई उद्योगों का की चाल अस्थिर होती है और अक्सर बदलती रहती है। इसलिए, जितनी हालिया जानकारी आप हासिल करते हैं, उतना ही बेहतर होता है।

मांग और आपूर्ति का विश्लेषण करें

जैसा कि हम पहले ही देख चुके हैं, मांग और आपूर्ति दो सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक ताकतें हैं। चूंकि वे बाज़ारों की चाल निश्चित करने के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं, इसलिए आपके द्वारा चुने गए उद्योग की मांग और आपूर्ति की स्थिति पर गौर करना ज़रूरी है। इस तरह, आप उद्योग के भविष्य को अच्छे से परख सकते हैं। 

आप इंडस्ट्री के अतीत और वर्तमान में मांग और आपूर्ति के रूझानों की समीक्षा और विश्लेषण करके शुरुआत कर सकते हैं। बेहतर समझ पाने के लिए, आप उस इंडस्ट्री की मांग और आपूर्ति के रुझान की तुलना चुनी हुई दूसरी संबंधित इंडस्ट्री के साथ कर सकते हैं।

उद्योगों के जीवन चक्र का आकलन करें

उद्योगों के जीवन चक्र/ लाइफ साइकल के पांच अलग-अलग चरण होते हैं:

  • भ्रूण अवस्था/ एम्ब्योनिक स्टेज
  • विकास अवस्था/ ग्रोथ स्टेज
  • विधूनन अवस्था/  शेकआउट स्टेज
  • परिपक्व अवस्था/ मेच्योर स्टेज
  • गिरावट/ डिक्लाइन स्टेज

उद्योग आमतौर पर स्थिर नहीं रहते हैं, वे विकसित होते रहते हैं और समय के साथ बदलते भी रहते हैं। इसलिए किसी उद्योग के जीवन चक्र की पहचान और विश्लेषण करके आप कुछ हद तक उससे जुड़े ख़तरों और अवसरों की पहचान कर सकते हैं। आप इससे उस उद्योग में निवेश करने का सही समय भी समझ सकते हैं। 

उदाहरण के लिए, जब आप किसी ऐसे उद्योग में निवेश करते हैं जो अपने जीवन चक्र के विकास के चरण में होता है, तो उस उद्योग में आपको शानदार रिटर्न मिलने की अधिक संभावना हो सकती है। दूसरी ओर, परिपक्व चरण के दौरान निवेश से गिरावट की संभावना रहती है जो कि आपके निवेश को डुबा सकती है।    

विकास की बाधाओं और ग्रोथ ड्राइवर की पहचान करें

ग्रोथ ड्राइवर और बाधाएं कुछ अन्य अहम चीजें हैं जिन्हें आपको अपने उद्योग विश्लेषण में शामिल करना चाहिए। इन दो कारकों की पहचान आपको भविष्य में उद्योग की स्थिति निर्धारित करने में मदद मिल सकती है। किसी उद्योग के लिए विकास के सुचालक (ग्रोथ ड्राइवर) और बाधाएं, सरकारी नीतियों और तकनीकी प्रगति से लेकर व्यापक आर्थिक और सामाजिक कारकों तक पर निर्भर हो सकती हैं।

उदाहरण के लिए, इलेक्ट्रिक वाहन (EV) उद्योग को लें। भारत सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए एक सब्सिडी योजना (FAME) लेकर आई। यह संभवतः इस उद्योग के लिए एक बढ़िया ग्रोथ ड्राइवर है। हालांकि, चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी इस विकास में एक बाधा है। इसलिए, अगर कोई उद्योग बाधाओं से अधिक ग्रोथ ड्राइवरों का सामना करता है, तो आपको आगे बढ़ने और उसमें निवेश करने के लिए अधिक कारण मिल सकते हैं।

निष्कर्ष

तो, यह था इंडस्ट्री एनालिसिस का निचोड़ है। और बेहतर होगा कि हम इंडस्ट्री रिसर्च (उद्योग अनुसंधान) को कंपनी रिसर्च और स्टॉक मार्केट रिसर्च के साथ जोड़कर देखें। हम आने वाले अध्यायों में इन कॉन्सेप्ट के बारे में अधिक जानकारी हासिल करेंगे।

अब तक आपने पढ़ा

  • 'इंडस्ट्री’ या ‘उद्योग' शब्द का उपयोग ऐसी कंपनियों के समूह को सामूहिक रूप से वर्गीकृत करने के लिए किया जाता है जो समान उत्पाद या सेवाएं प्रदान करते हैं।
  • सेक्टर, संबंधित उद्योगों का एक समूह होता है।
  • उद्योग विश्लेषण (इंडस्ट्री एनालिसिस) के साथ शुरुआत करने के लिए सही सेक्टर और उद्योग का चुनाव करें।
  • सही उद्योग चुनने के बाद, आपको उस उद्योग से संबंधित सभी अहम विषयों को पढ़ने और समीक्षा करने की ज़रूरत पड़ती है।
  • फिर, उद्योग की मांग और आपूर्ति में अतीत और वर्तमान रूझानों की समीक्षा और विश्लेषण करें।
  • उद्योगों में पांच अलग-अलग चरणों वाला जीवन चक्र होता है: भ्रूण अवस्था, वृद्धि अवस्था, विधूनन अवस्था, परिपक्व अवस्था और गिरावट
  • बाधाओं को पहचानना और विकास के सुचालकों (ग्रोथ ड्राइवर) को समझना उद्योगों के लिए बेहद महत्वपूर्ण पहलू होता है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (1)

Harman

21 Jan 2021, 10:06 PM

So valuable information

Replies (1)
एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo