विभिन्न बीमा उत्तपाद की तुलना के कारक

icon

अजय कुमार एक सफल वकील हैं, जो अपनी पत्नी और दो बच्चों (उम्र-  12 और 14) के साथ हजरतगंज, लखनऊ में एक शानदार बंगले में रहते हैं। एक शनिवार की प्यारी सी सुबह, अजय अपने दोस्त के साथ टेनिस खेलने जाने के लिए अपनी कार में बैठते हैं। 

वह कार के अंदर जाकर अपनी सीट को अपने अनुसार सेट करके बैठते हैं। उसने एक ऐप से जुड़ा डैशबोर्ड संकेतक चुना हुआ है जो उनके स्थान या पसंद के अनुसार सभी बीमा योजनाओं के बारे में सूचित करता है। उदाहरण के तौर पर, जब वह घर पर होते हैं तो बीमा ऐप उनके घर/स्वास्थ्य और अन्य बीमा का संचालन करता है। गाड़ी चलाते समय वह अपनी कार की बीमा का प्रबंधन करता है। है ना ये शानदार?

जब वह रोड पर तेज़ी से गाड़ी चलाने लगते हैं तो डैशबोर्ड उन्हें चेतावनी देता है कि अगर वह स्पीड ज्यादा बढ़ाते हैं और अचानक ब्रेक लगाते हैं तो उनकी रिस्क रेटिंग खराब हो सकती है।  अजय एक्सेलरेटर पर कम जोर देने की बात को अपने मन में याद कर लेते हैं।

अजय को बीमा सहित अपने वित्त के सक्रिय प्रबंधन पर गर्व होता है। अपनी वापसी पर वह सभी बीमा पॉलिसियों की पूरी समीक्षा करने का प्लान बनाते हैं। सुबह 9 बजे अजय अपने खेल से वापस आ जाते हैं। जैसे ही वह नाश्ता करना शुरू करते हैं वैसे ही उसे सुबह की ड्राइव याद आती है और वह बीमा प्रबंधक मोबाइल ऐप खोलता है, जो उसके द्वारा खरीदी गई तमाम बीमा पॉलिसियों को दिखाता है।

जैसे ही वह एप्लिकेशन डैशबोर्ड को देखता है, उसे पता चलता है कि साल 2015 में जब उसने अपने परिवार के लिए वित्त और बीमा योजना में अपना पहला कदम उठाया था, इसकी तुलना में आज उसका बीमा संबंधी अनुभव कितना अलग है। ऐप पर उसे एक शानदार पेंशन योजना दिखती है। वह लिंक पर क्लिक करता है और अपने बैंक के रिलेशनशिप मैनेजर के साथ वीडियो चैट के लिए जुड़ जाता है। उन्हें उनके द्वारा बताया गया पेंशन योजना पसंद आता है।

वह यह देखकर आश्चर्यचकित है कि पेंशन योजना को उनके बचत पैटर्न के लिए कैसे कस्टमाइज किया गया था और बैंक के अन्य ग्राहकों ने भी एक समान योजना चुनी थी। कार बीमा डैशबोर्ड एक ‘थम्स अप’ का चिह्न दिखाता है। उसने पिछली तिमाही में 5,000 अंक अर्जित किए थे, जिसे वह गैरेज में उपयोग कर सकते हैंं। उन्होंने ये पॉइंट्स स्पीड बढ़ाने और ब्रेक लगाने के लिए ऐप द्वारा सुझाए गए तकनीकों का अभ्यास करके कमाए। कभी-कभी उन्हें लगता है कि उन्होंने ये पहले क्यों नहीं शुरू किया। 

हालांकि वह निराश हैं कि वह अपने स्वास्थ्य बीमा से जुड़े ‘हेल्दी बडी’ कार्यक्रम में चौथा स्टार नहीं कमा सके। वर्चुअल चैट असिस्टेंट उन्हें बताता है कि जिम, टेनिस सेशन और शेड्यूल किए गए हेल्थ चेक-अप को मिस करने से उन्हें एक्स्ट्रा स्टार की कीमत चुकानी पड़ी। ऐप को बंद करने से पहले वह जल्दी से अपनी होम इंश्योरेंस पॉलिसी की एक भागीदार सेवा, एक होम मेंटेनेंस एजेंसी, के साथ अप्वाइनमेंट की जांच करते हैं। 

क्या यह उदाहरण साइंस फिक्शन की तरह लग रहा है? ऐसा जरूरी नहीं। यह कहानी आज की दुनिया में सच होने की पूरी संभावना है।

विभिन्न बीमा उत्पादों की तुलना करने के लिए अहम कारक:

  1. बीमा के प्रकार

आपको बाजार में कई प्रकार की पॉलिसी मिलेंगी। मुख्य बात ये है कि आप ऐसी पॉलिसी का चयन करें जो आपकी आवश्यकता के अनुरूप हो। हर प्रकार की पॉलिसी का अपना लाभ है और यह सबसे उपयोगी तभी होगी अगर यह आपकी आवश्यकताओं को पूरा करे। एक बार पॉलिसी के प्रकार का चयन करने के बाद, आप कई बीमा कंपनियों के समान उत्पादों पर विचार कर सकते हैं।

  1. प्रीमियम

पॉलिसी की तुलना करने का पूरा मकसद ही है कि एक ऐसी योजना चुनी जा सके जो जरूरत के समय में सबसे अधिक वित्तीय सहायता प्रदान करे। लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि आप खुद को सुरक्षित करने के लिए मोटी कीमत चुकाएं। पॉलिसी की तुलना कर आपको एक बेहतरीन पॉलिसी खोजने में मदद मिलेगी जो सस्ती भी हो और अधिकतम कवरेज भी प्रदान करती हो।

  1. बीमा कंपनी

स्वास्थ्य बीमा कंपनियों की तुलना करने से उनकी सेवाओं को समझने में मदद मिलती है। आपको सोशल मीडिया और विभिन्न तरह के ऐप पर उनकी समीक्षाओं और ग्राहकों के अनुभवों पर भी ध्यान देना चाहिए। पॉलिसी दस्तावेज़ में बताई गई विशेषताएँ बीमा कंपनी की शर्तों के अनुसार होनी चाहिए। एक अच्छा बीमाकर्ता आपके प्रश्नों और दावों का तेज़ी से जवाब देगा। उनके पास एक सक्रिय ग्राहक सहायता केंद्र होगा जो आपके प्रश्नों का प्रभावी ढंग से उत्तर देगा और दावे के समय आपकी सहायता करेगा। ऐसी कंपनी चुनें जो इस मापदंड को पूरा करे।

  1. उप-सीमा

अक्सर, बिना सब-लिमिट वाली पॉलिसियों को सीमा वाली पॉलिसियों पर प्राथमिकता दी जाती है। लेकिन अगर आपकी ज़रूरतों के हिसाब से एक सब-लिमिट वाली, विशिष्ट प्रकार की पॉलिसी की आवश्यकता है, तो ऊँची सीमा वाली पॉलिसी का चयन करना बेहतर होगा। आपका बीमाकर्ता आपकी उप-सीमा के अनुसार दैनिक शुल्क वहन करेगा। अगर खर्च अधिक हो जाता है तो आपको अंतर का भुगतान करना होगा। उप-सीमा के आधार पर मेडिक्लेम पॉलिसी की तुलना करें।

  1. बीमा

बीमा कवरेज उपयोगकर्ताओं को अनपेक्षित घटनाओं से वित्तीय तौर पर उबरने में मदद करता है, जैसे परिवार के सदस्य की मृत्यु, कार दुर्घटना या फिर विकलांगता। बीमा कवरेज अक्सर कई कारकों द्वारा निर्धारित की जाती है। उदाहरण के लिए अधिकांश बीमाकर्ता ज्यादा अनुभव वाले मध्यम आयु वर्ग के विवाहित व्यक्ति की तुलना में युवा पुरुष ड्राइवरों से ज़्यादा प्रीमियम लेते हैं। 

  1. क्लेम सेटलमेंट रेशियो

क्लेम सेटलमेंट रेशियो या जिसे आमतौर पर सीएसआर के रूप में जाना जाता है, यह बीमाकर्ताओं द्वारा दिए गए दावों की संख्या और कंपनी द्वारा प्राप्त कुल दावों का प्रतिशत है। क्लेम सेटलमेंट रेशियो प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाने वाला फॉर्मूला इस प्रकार है: क्लेम सेटलमेंट रेशियो = बीमाकर्ता द्वारा भुगतान किए गए कुल दावे ÷ बीमाकर्ता द्वारा प्राप्त दावों की कुल संख्या X 100। उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण यह कहता है कि एक बीमाकर्ता को उपभोक्ता से आखिरी आवश्यक दस्तावेज प्राप्त होने की तारीख के 30 दिनों के अंदर दावे का निपटान करना चाहिए। दावे के भुगतान में देरी के मामले में बीमाकर्ता अंतिम आवश्यक दस्तावेज प्राप्त करने की तारीख से दावे के भुगतान की तारीख तक ब्याज का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होगा। यह बैंक दर से 2 फीसदी अधिक दर पर होगा। इस दिशा निर्देश का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पॉलिसीधारकों का हित सुरक्षित रहे। यह बीमाकर्ताओं द्वारा शिकायत निवारण पर जोर देने के साथ पॉलिसीधारकों के केंद्रित शासन को भी सुनिश्चित करता है।

  1. कंपनी की विश्वसनियता

मार्च 1998 से क्रिसिल बीमा कंपनियों को अपने दायित्वों को पूरा करने की क्षमता का आकलन करने के बाद बीमा कंपनियों को वित्तीय बल रेटिंग आवंटित कर रहा है। जनरल या गैर- जीवन बीमा कंपनियों की रेटिंग कार्यप्रणाली के लिए उन्हें स्टैंड-अलोन आधार पर और उनके द्वारा प्राप्त मूल कंपनी से समर्थन के स्तर का आकलन करने की जरूरत होती है।

स्टैंड-अलोन आधार पर वित्तीय विश्लेषण के अलावा उद्योग और व्यवसाय के जोखिम, जोखिम प्रबंधन प्रणाली, लक्ष्य, रणनीति और अनुमानित व्यवसाय योजना जैसे कारकों का विश्लेषण किया जाता है।  मूल कंपनी का समर्थन विशेष रूप से स्टार्ट-अप बीमा उपक्रमों के लिए महत्वपूर्ण है।

Learning & Earning is now super simple

icon

₹ 0 Equity Delivery

No Hidden Charges

icon

₹ 20 Per Order For Intraday

FAQ,Currencies & Commodities

icon

ZERO Brokerage*

on ALL Segments

icon

FREE Margin

Trade Funding

नियम और शर्तें:

  • बीमा प्रभावी होगा और अंत तक ग्राहक की जीवन यात्रा को कवर करेगा।
  • बीमा व्यक्तिगत रूप से प्रत्येक ग्राहक के लिए बिलकुल अनुकूल और उपयुक्त होगा।
  • बातचीत "फिजिटल" होगी – यह शारीरिक और डिजिटल का एक मिश्रण है, हालांकि ये ज़्यादातर डिजिटल होता जा रहा है।
  • बीमाकर्ता ग्राहकों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सभी सेवा प्रदान करने के लिए विभिन्न सेवा प्रदाताओं के साथ साझेदारी करेंगे। सिर्फ उत्पाद ही नहीं बल्कि टेक्नोलॉजी में विकास विभिन्न उद्योगों को तेजी से बदल रहा है। बीमा उद्योग भी इससे अलग नहीं है। ये उन्नति काफी अहम होगी क्योंकि ये बीमा व्यवसाय के विभिन्न पहलुओं पर बड़ा असर डालेगी जिनमें अंडरराइटिंग, बिक्री, दावे और ग्राहक सेवा शामिल हैं।
  • और तो और तेजी से विकसित हो रही मैक्रो-इकोनॉमिक परिस्थितियां - कम ब्याज दर, ग्राहक व्यवहार में बदलाव, डिजिटल माध्यम अपनाने का प्रभाव, प्रतिस्पर्धी परिदृश्य और बदलती नियामक स्थिति- ये सभी उच्च अधिकारियों को नए अवसरों का फायदा उठाने के लिए रणनीतियाँ विकसित करने और चुनौतियों का सामना करने में व्यस्त रखेंगे। 

उपरोक्त संदर्भ के आधार पर हमने बीमाकर्ताओं के लिए 12 रणनीतिक प्राथमिकताओं की पहचान की है जो भविष्य के बीमा की तैयारी में सहायता कर सकते हैं। भारत का बीमा क्षेत्र हाल के वर्षों में काफी बढ़ रहा है, लेकिन वैश्विक बीमा बाजार में इसकी हिस्सेदारी अचानक कम हो गई है। भारतीय बीमा क्षेत्र को बीमा उत्पादों में अपर्याप्त निवेश, कम पहुंच और घनत्व दर, सार्वजनिक क्षेत्र के खिलाड़ियों की खराब वित्तीय स्थिति जैसे मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है।

भारत में बीमा उद्योग पहले से कहीं अधिक विकसित हो रहा है। वैश्विक स्तर के मुकाबले  कुल बीमा प्रीमियम तेजी से बढ़ रहा है। वित्त वर्ष 18 के लिए बीमा निवेश (कुल सकल घरेलू उत्पाद का रेशियो और घनत्व (कुल प्रीमियम और जनसंख्या का अनुपात) क्रमशः 3.69% और US $73 रहा, जो वैश्विक स्तर के मुकाबले कम है। यह कम पहुँच और घनत्व दर भारत में बड़ी आबादी के बीमाकृत ना होने और एक बड़े बीमा अंतर को दर्शाता है। यह क्षेत्र राज्य के एकाधिकार में होने से एक प्रतिस्पर्धी बाजार की ओर आगे बढ़ गया है लेकिन सार्वजनिक क्षेत्र के बीमाकर्ता बीमा बाजार में अधिक महत्वपूर्ण हिस्सेदारी रखते हैं, भले ही वे मात्रा में कम हों।

Figure 1. भारत में बीमा की पहुँच और घनत्व: 2001-2017

स्रोत: IRDAI वार्षिक रिपोर्ट, 2018.

निष्कर्ष

आप अलग-अलग बीमा उत्पादों की तुलना करने वाले कारकों को जान गए हैं। अब अगले अध्याय की ओर बढ़ते हैं। 

अब तक आपने पढ़ा

  1. बीमा के प्रकार, प्रीमियम, बीमा कंपनी, उप-सीमा, दावा-निपटान अनुपात, कंपनी की विश्वसनीयता, ये कुछ महत्वपूर्ण कारक हैं जो बीमा उत्पादों का चयन करने से पहले ध्यान में रखने चाहिए।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (2)

Sukanya

17 Jun 2021, 12:43 PM

Why is the quiz not available

Replies (1)

Moideen Sarhan

11 Jun 2021, 08:21 PM

Can't take quiz pls solve the issue

Replies (1)
एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo
Open an account