4. नापसंद पूर्वाग्रह: मुझे पसंद नहीं है

icon

"गलती करना मानवीय है, क्षमा करना ईश्वरीय"- अलेक्जेंडर पोप

गलती करना मानवीय है: इसका मतलब है कि गलती तो इंसान से ही होती है। हम सभी गलतियां करते हैं और फिर हम इससे सबक लेते हैं और आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं। लेकिन कभी-कभी हम निर्णय को लेकर कई गणनाएँ करते हैं, उस पछतावे के बारे में भी सोचते हैं जो निर्णय गलत होने पर हमें होगा और उसी पछतावे से बचने को आधार बनाकर निर्णय लेते हैं। यही नापसंद पूर्वाग्रह या अफसोस अवतरण सिद्धांत का आधार है।

गलती से ज्यादा, किसी निर्णय पर होने वाले पछतावे का जो डर है, वो इस सिद्धांत को संचालित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अफसोस आपको एक ऐसे दलदल में फंसा देता है जिसमें कोई व्यक्ति नहीं जाना चाहता। यह एक कमजोर कर देने वाली स्थिति है और हर कोई इससे बचना चाहता है। इसलिए अफसोस के चरण को रोकने के लिए निवेश के निर्णयों के बारे में विचार किया जाता है।

वहीं इसे अगर दूसरी नज़र से देखें, तो ये आपके नॉर्थ ईस्ट सोलो ट्रिप पर जाने के आकस्मिक फैसले की तरह है, जो आप इसलिए लेते हैं क्योंकि आपको लगता है कि अगर आप नहीं गए तो ज़िंदगी भर पछताएंगे। पछतावे के काले बादल से बचने के नापसंंद पूर्वाग्रह या अफसोस अवतरण पूर्वाग्रह, प्रमुख व्यावहारिक पूर्वाग्रहों में से एक है।

विशेषज्ञों के एक वर्ग का कहना है कि अफसोस व्यक्ति में निर्णय लेने की शक्ति को प्रभावित करता है। जब निवेश संबंधी निर्णय लेने की बात आती है तो अनिश्चितता के कारण अफसोस का कारक अधिक शक्तिशाली हो जाता है। पछतावा या पछतावा के डर से निवेशकों के फैसले बदल जाते हैं और ये उनके पिछले विश्वासों और प्रणाली को चुनौती देता है।

अनुलग्नक पूर्वाग्रह की तरह ही, नापसंद पूर्वाग्रह या अफसोस अवतरण पूर्वाग्रह एक व्यक्ति की तर्कसंगत सोच की क्षमता को कम करने और उनकी दृष्टि को धुंधला करने में एक अहम भूमिका निभाता है। यह या तो निवेशकों को जोखिम में डाल सकता है या उन्हें ऐसे जोखिम लेने के लिए नकारात्मक रूप से प्रोत्साहित कर सकता है, जो उन्हें नहीं लेने चाहिए। दोनों ही तरीकों से, जोखिम अवतरण पूर्वाग्रह व्यापार को नुकसान पहुंचाता है।

परिदृश्य:

मान लीजिए कि कमल सनराइज एस्टेट में निवेश करता है और अगले आठ महीनों में सनराइज एस्टेट शेयर पर 9% ब्याज प्रदान करता है। कमल सनराइज एस्टेट पर हिस्सेदारी बेचने के बारे में सोचना शुरू करता है लेकिन फिर वह फाइनेंशियल एक्सप्रेस में कंपनी के लाभ कमाने और बेहतर होते वित्तीय स्वास्थ्य के बारे में पढ़ता है। निवेश के लिए यह कमल में एक नई उम्मीद जगाता है और वह फिर से सनराइज एस्टेट में हिस्सेदारी जारी रखने के बारे में सोचता है।

इस मामले में, अगर कमल सनराइज एस्टेट में हिस्सेदारी के साथ रहना पसंद करता है, तो यह आंशिक रूप से इसलिए होगा क्योंकि कंपनी लाभ कमा रही है और भविष्य में निवेश पर उच्च रिटर्न प्रदान कर सकती है। इसके अलावा यह आंशिक रूप से इसलिए भी है क्योंकि कमल को डर है कि अगर वह हिस्सा बेच देगा और फिर सनराइज एस्टेट अधिक लाभ कमाएगा तो उसे वो शेयर बेचने का पछतावा होगा।

चूंकि निवेश में हमेशा अनिश्चितता बनी रहती है, इसलिए यह निश्चित नहीं है कि कोई शेयर दीर्घकालिक लाभ प्रदान करेगा या आवेग लाभ प्राप्त करने के बाद इसका फायदा उठाने के लिए उसे जल्दी से बेच दिया जाएगा। इसलिए अफसोस अवतरण पूर्वाग्रह से बचने का एकमात्र तरीका है कि निवेश से पहले उसके बारे में जागरूक रहना, गहन शोध करना, सवाल पूछना और सोच-समझकर निर्णय लेना।

निर्णय लेने से पहले, निवेश से संबंधित लाभ और हानि पर ध्यान देना अहम है। निवेशक अगर पिछले विकल्पों का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करें तो वे अपने निर्णयों में भूमिका निभाने वाले अफसोस कारक को कम कर सकते हैं। उन्हें अफसोस अवतरण के पीछे के मनोविज्ञान को समझने की जरूरत है और ये देखने की भी कि क्या अतीत में वह इससे प्रभावित हुए हैं।

निवेशकों को उन निवेश रणनीति का पालन करने को लेकर सख्त होना चाहिए जो उन्हें ‘क्या खरीदें, कब खरीदें और कितना खरीदें’ की ज्यादा गहराई में जाए बिना कड़ाई से निवेश दिशा-निर्देशों का पालन करवाए। व्यापार प्रबंधन के लिए एल्गोरिदम का पालन करके व्यापारिक प्रक्रियाओं को स्वचालित करने के कई तरीके हैं। रोबो-एडवाइजर कॉन्सेप्ट ने निवेश की बारीकियों को संबोधित कर  निवेश को सरल और स्वचालित बना दिया है।

निष्कर्ष

अब जब हम वित्तीय क्षेत्र के व्यवहार संबंधी पूर्वाग्रहों के बारे में जान गए हैं, तो हम आगे बढ़ सकते हैं और अगले पूर्वाग्रह को समझ सकते हैं- निर्णय लेने का पूर्वाग्रह।

अब तक आपने पढ़ा

  1. अफसोस अवतरण पूर्वाग्रह उस मानवीय व्यवहार पर आधारित है जो कि भविष्य में होने वाली गलती के कारण किसी निर्णय पर विचार करने और अफसोस की भावना से बचने के कारण होता है।
  2. इस तरह की भावना व्यक्ति के सोच की स्पष्ट दृष्टि को धुंधला कर देती है, जिससे व्यक्ति निवेश के अवसरों को तय करने में अक्षम हो जाता है।
  3. अफसोस अवतरण सिद्धांत निवेशकों को परेशान कर सकता है क्योंकि यह उन्हें निवेश में अनावश्यक जोखिम लेने या अफसोस के डर के कारण पहले से लिए गए निर्णय को खराब करने के लिए प्रेरित कर सकता है।
  4. नई कंप्यूट्रीकृत रणनीतियां और बॉट निवेश में मूलभूत निर्णयों को सरल बना सकते हैं, जिससे पछतावे से बचने में मदद मिलती है।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo