10. एक साफ टैक्स रिकॉर्ड के लिए 10 अहम बातें

icon

आशीष और नोनी ने हाल ही में ट्रेडिंग शुरू की है और पैसा कमा रहे हैं। सिर्फ एक डर जो उन्हें हमेशा लगा रहता है वो है टैक्स का डर। उनके टैक्स गुरु उन्हें बताते हैं कि भारत में व्यापार कर इतना मुश्किल नहीं है जितना लोगों को लगता है। आपका शुरुआती काम ये तय करना होगा कि आपकी व्यापारिक गतिविधि किस श्रेणी में आती है। जैसे, क्या आप पूंजीगत लाभ की श्रेणी में आते हैं या व्यावसायिक आय की श्रेणी में? अन्य फायदे और नुकसान के बारे में पता होना भी महत्वपूर्ण है। हालांकि यह शुरुआत में चुनौतीपूर्ण लग सकता है, लेकिन चुनौतीपूर्ण हिस्सा आपके सभी मुनाफे और नुकसान का ट्रैक रखने के समय आता है, इसलिए आप उन्हें कर वर्ष के अंत में पूरा कर सकते हैं।

आइए देखते हैं कि ये सभी बातें क्या हैं!

1. आय के प्रकार

ध्यान देने वाला सबसे पहला पॉइंट है कि भारत में व्यापारिक कराधान को व्यापार गतिविधि के रूप और व्यापार द्वारा उत्पन्न आय के आधार पर, चार प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है। नीचे व्यापारियों के लिए लागू कराधान के साथ-साथ उनकी विशेषताएं, लाभ और उदाहरण दिए गए हैं:

  1. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स या दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ, सरकार द्वारा लगाया गया वो टैक्स है जो तब लगाया जाता है जब कोई एसेट, जैसे निवेश, किसी व्यक्ति द्वारा किसी लंबी अवधि के लिए रखा जाता है। भारत में, अगर एक साल या उससे अधिक समय के लिए कोई निवेश रखा जाता है, तो उसकी खरीद या बिक्री से होने वाला लाभ लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स के अधीन होता है।
  2. शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स (अल्पावधि पूंजीगत लाभ) लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स की तरह ही है सिवाय इसके कि उन्हें होल्ड करने की अवधि कम होती है। भारत में एक दिन से अधिक और एक वर्ष से कम समय का निवेश शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स के अधीन होता है। इक्विटी के माध्यम से ट्रेडिंग आय पर टैक्स की बात करें तो, एक वर्ष के भीतर स्टॉक बेचकर कमाया गया कोई भी मुनाफा 15% कराधान के अधीन है।
  3. प्रत्याशित आय इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से कमाई जाती है, और व्यापारिक कराधान में इसे स्पेक्यूलेटिव इनकम के रूप में माना जाता है। इसे ट्रेड के माध्यम से उत्पन्न आय के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसमें सिक्योरिटी को बिना उसकी डिलीवरी की उम्मीद के, उसी ट्रेडिंग दिवस के भीतर खरीदा और बेचा जाता है।
  4. गैर-प्रत्याशित व्यवसाय आय, वायदा और विकल्प अनुबंधों (फ्यूचर और ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट) द्वारा उत्पन्न होती है जिसे विशेष रूप से गैर-प्रत्याशित व्यवसाय आय या नॉन-स्पेक्यूलेटिव इनकम के तौर पर परिभाषित किया गया है। इसमें या तो दोनों या केवल फ्यूचर्स या ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट से की गई कमाई आय शामिल है।

2. इंट्राडे ट्रेडिंग मुनाफे पर टैक्स

अब जब हम जानते हैं कि इंट्राडे ट्रेडिंग को बड़े पैमाने पर व्यापार आय - इक्विटी या डेरिवेटिव के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि व्यावसायिक आय में कर की दर निर्धारित नहीं होती है।

उदाहरण के लिए, अगर आपने इंट्राडे इक्विटी ट्रेडिंग से ₹1,00,000, इंट्राडे एफएंडओ ट्रेडों से ₹50,000 और अपने वेतन से ₹10,00,000 कमाए हैं, तो आपकी कुल आय देयता ₹11,50,000 है। आपके द्वारा देय आयकर आप पर लागू टैक्स स्लैब और कटौती पर निर्भर करेगा।

3. कर-हानि कम करना

टैक्स-लॉस हार्वेस्टिंग यानी टैक्स हानि कम करने की रणनीति में आपके पोर्टफोलियो में घाटे में चल रहे शेयरों को बेचना शामिल होता है। आप नुकसान झेलकर उन्हें पूंजीगत लाभ में समायोजित कर सकते हैं और ऐसा करने में, अपनी कर देयता को कम कर सकते हैं और अपने पोर्टफोलियो पर टैक्स के बाद के रिटर्न में सुधार कर सकते हैं। इससे कमाई गई रकम के साथ, आप फंड के मूल्यांकन को बनाए रखने के लिए एक समान क्षेत्र से एक शेयर खरीद सकते हैं।

यहाँ कर हानि कम करने में शामिल कदम हैं:

  • अपने पोर्टफोलियो में उन एसेट की पहचान करें जो लगातार कम प्रदर्शन कर रहे हैं, और जहां मूल्य परिवर्तन की संभावनाएं कम हैं।
  • इन शेयरों को बेचें और नुकसान झेलें।
  • इस नुकसान को पोर्टफोलियो से किए गए कुल पूंजीगत लाभ से एडजस्ट किया जा सकता है।
  • यह आपके कर योग्य पूंजीगत लाभ को कम करेगा।

4. इंट्राडे ट्रेडिंग में कराधान

इंट्राडे स्टॉक ट्रेडिंग से प्राप्त आय को प्रत्याशित व्यापार आय माना जाता है। आयकर अधिनियम की धारा 43 (5) के अनुसार, इंट्राडे ट्रेडिंग से प्राप्त लाभ को कुल आय स्लैब के अनुसार कर योग्य व्यापार आय में जोड़ा जाता है।

हालांकि, करदाताओं (व्यापारियों) के पास इस आय को दो अलग-अलग श्रेणियों के तहत वर्गीकृत करने का विकल्प होता है, जिनकी फिर से अलग-अलग टैक्स देनदारियां बनती हैं।

5. डीमैट खाते का उपयोग करके टैक्स बचाएं

अगर आप सोच रहे हैं कि डीमैट खाते का उपयोग करके टैक्स कैसे बचाएं, तो यहां दो सबसे आसान तरीके हैं, जिनके उपयोग से आप अपनी कर देनदारी काफी कम कर सकते हैं।

  • यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) एक बेहतरीन निवेश साधन है जो आपको बीमा कवर के साथ-साथ कमाई का दोहरा लाभ देता है। इन निवेशों को आपके डीमैट खाते में जमा किया जाता है, जिसे आपको अनिवार्य लॉक-इन अवधि के तहत कम से कम 5 साल के लिए रखना जरूरी होता है।
  • इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) एक और बढ़िया कर-बचत निवेश विकल्प है। निवेश के अन्य पारंपरिक रूपों की तुलना में, ELSS की लॉक-इन अवधि केवल 3 साल है। इस योजना द्वारा दिया गया रिटर्न भी आम तौर पर अन्य निवेशों की तुलना में बहुत अधिक होता है।

6. टैक्स ऑडिट

अगर आपके पास व्यावसायिक आय है और किसी वित्तीय वर्ष (वित्त वर्ष 20-21 से) के लिए आपके व्यवसाय का कारोबार 5 करोड़ रुपये से अधिक है, तो ऑडिट जरूरी होता है। डिजिटल लेनदेन के मामले में (इक्विटी लेनदेन 100% डिजिटल हैं), यह कारोबार सीमा 5 करोड़ रुपये है। सेक्शन 44AD के अनुसार, इक्विटी व्यापारियों के लिए भी ऑडिट आवश्यक है अगर कारोबार तो 5 करोड़ रुपए से कम हो लेकिन मुनाफा टर्नओवर के 6% से कम है और कुल आय न्यूनतम छूट सीमा से ऊपर है।

7. खर्च क्लेम करें

एक व्यवसाय कारोबार के लिए किए गए सभी खर्चों को क्लेम करने का लाभ उठा सकता है। उदाहरण के लिए, ब्रोकरेज शुल्क, एसटीटी, ट्रेडिंग पर लगने वाले अन्य टैक्स, इंटरनेट, फोन, समाचार पत्र, कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक्स के मूल्यह्रास, अनुसंधान रिपोर्ट, किताबें, सलाहकार, आदि।

8. एफ एंड ओ नुकसान को आगे बढ़ाएं

अगर किसी वर्ष (गैर- प्रत्याशित एफएंडओ + वेतन के अलावा अन्य आय) नुकसान होता है, और अगर आयकर रिटर्न निर्धारित तारीख से पहले दर्ज किया जाता है, तो नुकसान को अगले 8 वर्षों तक आगे बढ़ाया जा सकता है। अगले 8 वर्षों के दौरान, इस नुकसान को किसी अन्य व्यावसायिक लाभ के साथ समयोजित किया जा सकता है।

9. लेखा-जोखा और रिकॉर्ड बनाए रखें

वाउचर और रसीद सहित खातों की पुस्तकों को अलग-अलग संवैधानिक कानूनों - आयकर अधिनियम, कंपनी अधिनियम 2013 और जीएसटी अधिनियम के तहत बनाए रखना आवश्यक है। सभी 3 कानूनों के तहत खातों का रखरखाव, प्रतिधारण अवधि और अनिवार्यता की आवश्यकताएं अलग-अलग हैं।

10. अपने टैक्स को संभालने के लिए एक पेशेवर की मदद लें

कई लोग अपने करों को खुद संभालकर पैसे बचाने की कोशिश करते हैं। वास्तव में, अगर आप एक कर पेशेवर को काम में नहीं लेते, तो आपके पास उनकी लेखांकन विशेषज्ञता ना होने से आपके व्यवसाय को बहुत पैसा खर्च करना पड़ सकता है।

यह संभव है कि आप अपनी कोई योग्य कटौती करने से चूक रहे हों या आपने किसी बिल को पूरा ना भरा हो जिससे आपको जुर्माना भी देना पड़ सकता है। अगर आप एक पेशेवर पर पैसा खर्च करते हैं, तो वे जानते हैं कि वे क्या कर रहे हैं और आपको सबसे सही वित्तीय स्थिति तक पहुंचाने के लिए लेखांकन तकनीकों का उपयोग करेंगे।

निष्कर्ष

एक व्यापारी के रूप में, बाजार और इसके विभिन्न जोखिमों और मुनाफों के बारे में सूचित रहना अहम है। हालांकि, यह जानना उतना ही महत्वपूर्ण है कि जब हर वित्तीय वर्ष ट्रेडिंग कराधान की चुनौती सामने खड़ी हो जाती है तो उसका सामना कैसे किया जाए। उम्मीद है यह मार्गदर्शिका आपको आपकी ट्रेडिंग प्रकार की सही श्रेणी जानने में मदद करेगी। यह अहम है कि आप कर-संबंधी समाचारों की पूरी जानकारी रखें और ये भी समझें कि उनका आपकी वर्तमान और भविष्य ट्रेडिंग शैली और रणनीतियों पर कैसे असर पड़ेगा।

अब तक आपने पढ़ा

  1. सबसे पहला अहम बिंदु यह है कि भारत में व्यापार कराधान को आय का प्रकार के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है।
  2. टैक्स-लॉस कम करने की रणनीति में आपके पोर्टफोलियो में घाटे में चल रहे शेयरों को बेचना शामिल होता है।
  3. वाउचर और रसीद सहित खातों की पुस्तकों को अलग-अलग वैधानिक कानूनों - आयकर अधिनियम, कंपनी अधिनियम 2013 और जीएसटी अधिनियम के तहत बनाए रखना आवश्यक है।
  4. एक व्यवसाय व्यापार के लिए किए गए सभी खर्चों को क्लेम कर फायदा उठा सकता।
icon

अपने ज्ञान का परीक्षण करें

इस अध्याय के लिए प्रश्नोत्तरी लें और इसे पूरा चिह्नित करें।

टिप्पणियाँ (0)

एक टिप्पणी जोड़े

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.


The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey
anytime and anywhere.

Visit Website
logo logo

Get Information Mindfulness!

Catch-up With Market

News in 60 Seconds.

logo

The perfect starter to begin and stay tuned with your learning journey anytime and anywhere.

logo
logo

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

logo